51 बटुक करेंगे अभिनंदन, डमरूनिनाद से रिझाएंगे भोले को:श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर लोकार्पण, रेड कारपेट पर गंगा जल लेकर गर्भगृह जाएंगे पीएम मोदी

वाराणसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्री काशी विश्वनाथ धाम के दिव्य और भव्य स्वरूप का लोकार्पण करने अबसे कुछ ही घटों बाद कल यानी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी आ रहे हैं। पीएम मोदी का अभिनंदन श्री दयालु संस्कृत महाविद्यालय के 51 बटुकों द्वारा स्वस्तिवाचन के साथ किया जाएगा। इसके बाद पूजन के सयम गर्भगृह के बाहर 51 डमरूवादक डमरूनिनाद कर बाबा को रिझाएंगे।

इससे पूरा वातावरण शिवमय व दिव्य हो जाएगा। पीएम मोदी जितने समय तक बाबा के गर्भगृह में रहकर पूजन करेंगे तबतक डमरूनिनाद होता रहेगा। पीएम मोदी का पैर फर्श पर न पड़े, इसके लिए पूरे मंदिर परिसर में रेड कारपेट बिछाई जा रही है। वे गंगा नदी का पवित्र और निर्मल जल लेकर बाबा के गर्भगृह तक पैदल जाएंगे।

बाबा के दरबार में पहुंचकर हाजिरी लगाने के बाद ही कोई दूजा काम करेंगे। सोमवार को होने वाले इस ऐतिहासिक कार्यक्रम की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए रविवार को युद्ध स्तर पर उच्च स्तरीय अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक लगे हुए हैं।

ऐसा रहा है श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का इतिहास
अनेक ऐतिहासिक कालखंडों से गुजरता श्रीकाशी विश्वनाथ धाम आक्रांताओं द्वारा तोड़ दिया गया था। तब महारानी अहिल्याबाई होलकर ने मंदिर का पुनर्निर्माण कराया था। बाद में महाराजा रणजीत सिंह ने मंदिर के शिखर को स्वर्ण मंडित कराया। काफी प्राचीन मंदिर संपूर्ण विश्व के सनातन धर्मावलंबियों का केंद्र है्र लेकिन काफी संकरी गलियों से होकर बाबा के दर्शन को पहुंचना काफी कष्टदायी था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे भव्य रूप देने की ठानी और धाम अब अपने नए कलेवर में तैयार है।

जल मार्ग से बाबा के दरबार पहुंचेंगे पीएम
इसका लोकार्पण करने पीएम मोदी 13 दिसंबर की सुबह करीब 11 बजे के बाद लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पहुंचेंगे। वहां से सेना के हेलीकाप्टर से वह संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में बने हेलीपैड पहुंचेंगे। फिर सड़क मार्ग से खिड़किया घाट जाएंगे। वहां से क्रूज द्वारा गंगा के रास्ते श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पहुंचेंगे। मंदिर के पश्चिमी छोर पर बने जेटी पर उतरने के बाद कार द्वारा मंदिर तक जाने वाली स्वचालित सीढ़ियों से ऊपर पहुंचेंगे।

देश की अन्य नदियों से भरा घड़ा लेकर बाबा दरबार पहुंचेंगे पीएम मोदी
वहां उन्हें गंगाजल समेत देश की अन्य नदियों के जल का घड़ा सौंपा जाएगा। प्रधानमंत्री जल लेकर पैदल ही चौक होते हुए सीधे गर्भगृह में जाएंगे। वहां 11 वैदिक ब्राह्मणों द्वारा महादेव का जलाभिषेक व विधिवत पूजन-अर्चन कराया जाएगा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री धाम का लोकार्पण करेंगे। तुरंत बाद वे परिसर का भ्रमण कर उसकी छटा देखेंगे और वहां आयोजित अन्य कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

खबरें और भी हैं...