चुनाव में किन्नरों की दुआएं भी बटीं:लखनऊ में खड़े हुए भाजपा के साथ, वाराणसी में बोले- हम सपा के साथी

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ में भाजपा के नेताओं के सोनम किन्नर। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
लखनऊ में भाजपा के नेताओं के सोनम किन्नर। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में इस बार किन्नर समाज की दुआएं भी बंट गई हैं। किन्नर समाज का एक तबका सूबे की राजधानी लखनऊ से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के साथ होने का दावा कर रहा है। वहीं, दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से किन्नर समाज का एक अन्य तबका समाजवादी पार्टी का साथ देने और उसके पक्ष में प्रचार करने का खम ठोक रहा है।

हालांकि मतदाताओं के लिहाज से देखें तो प्रदेश में किन्नरों की संख्या इतनी भी नहीं हैं कि वह किसी को अपने बूते विधानसभा तक पहुंचा दें। लेकिन, उनकी दुआ और उनका आशीर्वाद शह और मात के सियासी खेल में किसकी किस्मत पलटेगा, यह बात चुनाव परिणाम आने के बाद देखने लायक होगी।

वाराणसी में सपा महानगर अध्यक्ष विष्णु शर्मा को आशीर्वाद देते हुए शबनम चौधरी।
वाराणसी में सपा महानगर अध्यक्ष विष्णु शर्मा को आशीर्वाद देते हुए शबनम चौधरी।

प्रदेश में 8853 किन्नर मतदाता हैं

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में इस बार 8853 किन्नर मतदाता मतदान करेंगे। इसी क्रम में वाराणसी में 185 किन्नर मतदाता हैं। वाराणसी निवासी शबनम चौधरी का कहना है कि संख्या में हम भले ही कम हैं। लेकिन, हम अपने मन की बात कहना और समझाना जानते हैं। हम लोगों को यह बताएंगे कि कौन सा राजनीतिक दल और नेता समाज के सभी वर्ग के लिए अच्छे हैं। कौन समाज और प्रदेश की बेहतरी के लिए काम करेगा। इसीलिए हम अपने समाज के लोगों को एकजुट कर रहे हैं कि उनमें बिखराव न होने पाए और और वह एकजुटता के साथ किसी एक ही दल का प्रचार करें।

किन्नरों के आशीर्वाद का है धार्मिक महत्व

सनातन धर्म में अर्द्धनारीश्वर यानी किन्नरों की दुआ और आशीर्वाद का धार्मिक महत्व है। काशी के ज्योतिषाचार्य पं. श्रीराम शर्मा ने बताया कि बच्चे का जन्म हो या विवाह हो, किन्नर जातक और घर की शुभाशभ के लिए बलाएं लेकर उसे तोड़ते हैं। उनका निरादर अर्श से फर्श तक ले जाता है और आशीर्वाद रंक से राजा बना देता है। वेदों और पुराणों में किन्नरों से जुड़े अनेकों प्रसंग हैं।

बुध और मंगल को प्रसन्न रखने के लिए किन्नरों की सेवा बहुत शुभ मानी जाती है। लंबे समय से रोग ग्रस्त व्यक्ति किन्नरों को हरे मूंग दान करे तो वह स्वस्थ हो जाता है। पं. श्रीराम शर्मा ने कहा कि इसलिए किन्नरों का आशीर्वाद जिसे भी मिले उसे खुशी-खुशी स्वीकार करना चाहिए।