ओवैसी बोले- बाबरी खोई, दूसरी मस्जिद हरगिज नहीं खोएंगे:कपिल मिश्रा का पलटवार- मंदिर हुआ तो रखने की जिद्द मत करना, अवैध कब्जे तो छोड़ने ही होंगे

वाराणसी2 दिन पहले

वाराणसी में ज्ञानवापी परिसर में कोर्ट के आदेश के बाद शनिवार को सर्वे हुआ। इसके बाद राजनीतिक बयानबाजी का दौर शुरू हो गया। AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अहमदाबाद में कहा कि बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला आ गया और अब ज्ञानवापी का मसला शुरू हो गया। हुकूमत को ये बात बता रहा हूं कि हमने एक बाबरी मस्जिद को खोया है। दूसरी मस्जिद को हरगिज नहीं खोएंगे।

उनके बयान के बाद भाजपा के फायरब्रांड नेता कपिल मिश्रा ने भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जे तो छोड़ने ही होंगे। इससे पहले चिदंबरम और उमा भारती ने भी ज्ञानवापी पर राजनीतिक बयानबाजी की।

खबर में आगे बढ़ने से पहले पोल में हिस्सा जरूर लें...

ज्ञानवापी मस्जिद को छीनने का प्रयास किया जा रहा: ओवैसी
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि बाबरी मस्‍जिद के लिए कई हथकंडे लगाए गए। इस वजह से हमने बाबरी मस्‍जिद को खो दिया। ऐसा ही अब वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हो रहा है। इसे हमसे छीनने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन वे इसमें कामयाब नहीं हो पाएंगे।

हम इन्हें ज्ञानवापी मस्जिद छीनने नहीं देंगे। भाजपा पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि 1991 के कानून का सम्‍मान करना चाहिए। बीजेपी कानून का पालन नहीं कर रही है। पीएम मोदी को अपनी चुप्‍पी तोड़नी चाहिए।

अवैध कब्जे तो छोड़ने ही होंगे: कपिल मिश्रा

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने कहा, "ओवैसी मियां, मस्जिद होगी तो नहीं खोओगे। मंदिर हुआ तो रखने की जिद मत करना। बाबरी मस्जिद नहीं थी, मंदिर पर किया हुआ अवैध कब्जा था। अवैध कब्जे तो छोड़ने ही होंगे।"

मथुरा-काशी शेष रह गए: उमा
उमा भारती ने कहा, "अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। मथुरा-काशी शेष रह गए हैं। भगवान की कृपा रही तो बिना किसी विवाद और तनाव के यह दोनों स्थानों का मसला सुलझ सकता है। मथुरा और काशी में तो यह स्पष्ट दिखता है कि इन दोनों जगहों पर हिंदुओं के परम आस्था के केंद्र विश्वनाथ का ज्योतिर्लिंग और श्रीकृष्ण की जन्मभूमि के पूजा के स्थान वहां पर थे जो साफ दिखाई देते हैं।"

ज्ञानवापी मामले में कब क्या हुआ?: 8 महीने पहले परिसर में हिंदू देवी-देवताओं की पूजा की मांग की गई, अब कोर्ट के आदेश पर हो रहा सर्वे

धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलना ठीक नहीं: पी. चिदंबरम
ज्ञानवापी सर्वे के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों का स्टेटस बदलना ठीक नहीं है, ऐसा करने से तनाव बढ़ेगा। प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 नरसिम्हा राव की सरकार के समय इसीलिए बना था कि धार्मिक जगहों की स्थिति नहीं बदली जाए। जो जगह जिसके पास है, उसी के पास रहे। राम जन्म भूमि का मामला अपवाद था।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान धार्मिक स्थलों को लेकर यथास्थिति (स्टेटस को) बनाए रखने की बातें कहीं।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान धार्मिक स्थलों को लेकर यथास्थिति (स्टेटस को) बनाए रखने की बातें कहीं।

जगतगुरु परमहंसाचार्य ने ओवैसी को बताया नफरत फैलाने वाला 'आतंकवादी'
अयोध्या के जगद्गुरु परमहंसाचार्य ने AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष असद्दुदीन ओवैसी को नफरत फैलाने वाला आतंकवादी बताया है। उन्होंने एक वीडियो जारी करके ये टिप्पणी की। पूजा स्थल अधिनियम 1991 का हवाला देते हुए उन्होंने ये आरोप लगाए हैं।

परमहंसाचार्य ने कहा कि पूजा स्थल पर विवाद करने वाले इंसान नहीं, नफरत फैलाने वाले आतंकवादी हैं। उन्होंने कहा कि जिस जमीन पर मस्जिद कभी थी ही नहीं, वहां इबादत करने से दुआ कैसे कुबूल होगी। वाराणसी में ज्ञानवापी परिसर में शनिवार को पहले दिन का सर्वे पूरा हो चुका है। सर्वे के बाद AIMIM प्रमुख ने अहमदाबाद में कहा था कि बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला आ गया है। अब ज्ञानवापी पर मसला शुरू हो गया। मैं हुकूमत को ये बता रहा हूं कि हमने बाबरी मस्जिद को खोया है। दूसरी मस्जिद को हरगिज नहीं खोएंगे। ज्ञानवापी को छीनने की कोशिश की जा रही है। जो हम हरगिज नहीं होने देंगे।

अयोध्या के जगद्गुरु परमहंसाचार्य ने वीडियो जारी करके ओवैसी पर टिप्पणी की है।
अयोध्या के जगद्गुरु परमहंसाचार्य ने वीडियो जारी करके ओवैसी पर टिप्पणी की है।

पीएम मोदी केवल हिंदुओं की पीड़ा देख रहे: सुब्रमण्यम स्वामी
भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी भी 13 मार्च को सोशल मीडिया पर पोस्ट कर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए दिखे। उन्होंने लिखा, "यह सचमुच अजीब है कि वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री होने के बावजूद मोदी 'प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट' (1991) की वजह से हिंदुओं की हो रही दुर्दशा बस देख रहे हैं और कुछ कर नहीं रहे। वाराणसी के लोगों को मोदी को कहना चाहिए कि वह या तो संसद से इस कानून को वापस लें या फिर...."

ज्ञानवापी के 50% हिस्से का सर्वे पूरा: पहले दिन 4 तहखानों की वीडियोग्राफी हुई, दीवारों की बनावट देखी; कल फिर होगा सर्वे

खबरें और भी हैं...