ओपी राजभर को मुख्तार परिवार पसंद है:वाराणसी में राजभर बोले- योगी झूठ बोलने में दुनिया के दूसरे नंबर के नेता, अब्बाजान नहीं महंगाई जान पर दें ध्यान; PM को उद्घाटन मंत्री बताया

वाराणसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (बाएं) और शशि प्रताप सिंह (दाएं)। - Dainik Bhaskar
सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (बाएं) और शशि प्रताप सिंह (दाएं)।

सुहलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा ) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने बुधवार को वाराणसी के मुनारी में कहा कि मुख्तार अंसारी और उनके परिवार का भागीदारी संकल्प मोर्चा में स्वागत है। हम यूपी की 24 करोड़ की जनता के साथ हैं। अतीक अहमद, बृजेश सिंह, धनंजय सिंह किसी से हमें परहेज नहीं है। हम प्रदेश के जन-जन के साथ हैं।

ओम प्रकाश ने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ दुनिया में झूठ बोलने के मामले में दूसरे नंबर के नेता हैं। योगी जी अब्बाजान तो कहते हैं, लेकिन महंगाई जान पर कुछ नहीं बोलते हैं। अगर योगी महात्मा, ईमानदार, सज्जन या संत होते तो अब तक कैग की रिपोर्ट के आधार पर प्रयागराज में कुंभ घोटाले में खुद को दोषी मान लिए होते।

अनिल राजभर नौकर है
कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर ने मंगलवार को वाराणसी में कहा था कि ओम प्रकाश राजभर कौन हैं? इसपर ओम प्रकाश राजभर ने भाषायी मर्यादाओं को लांघते हुए कहा कि वह तो बच्चा है, अभी अबोध है। उसका वीडियो देखकर मुझे ऐसा लगा कि वह नौकर है, लोडर है। उसकी औकात नहीं है कि वह राजभरों के आरक्षणों की बात कर सके।

जबकि, इसी बनारस में उसने प्रदेश भर के राजभरों को आरक्षण के मुद्दे पर इकट्ठा किया था। अगर वह राजभरों के आरक्षण की बात करेगा तो भाजपा के नेता उसकी जुबान काट लेंगे। वह अपनी जमानत बचा ले, यही अगले विधानसभा चुनाव में उसके लिए पर्याप्त होगा।

जाट वोट के लिए अलीगढ़ में गए यूनिवर्सिटी खोलने
सुभासपा अध्यक्ष ने कहा कि डेंगू के चलते उत्तर प्रदेश में सैकड़ों बच्चों की मौत हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अलीगढ़ में जाट वोट जुटाने के चक्कर में यूनिवर्सिटी खोल रहे हैं। साढ़े 4 साल तक वह कहां थे? डेंगू और मस्तिष्क ज्वर पर भी कुछ तो बोलो और बताओ कि व्यवस्था क्या है?

प्रधानमंत्री उद्घाटन मंत्री हैं, साढ़े चार साल में एक भी योजना का नाम बताएं जिसका उन्होंने उद्घाटन किया हो और वह पूरी हुई हो। भाजपा के नेता कांग्रेस के जमाने की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास कर रहे हैं और अपनी पीठ थपथपा रहे हैं।

मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा के लिए परेशान हैं
ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि भाजपा के सभी नेता परेशान हैं। योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए अपने नाम की घोषणा होने को लेकर परेशान हैं। अलीगढ़ में उन्हें घोषणा की उम्मीद भी थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। केशव मौर्या का दावा है कि उन्होंने पिछड़ों के बल पर सरकार बनवाई है तो अब इस बार उनका नाम मुख्यमंत्री के लिए घोषित किया जाए।

यह राम का नहीं विज्ञान का युग है
सुभासपा अध्यक्ष ने कहा कि यह युग राम का नहीं विज्ञान का है। अब वह दौर नहीं रहा कि रामजी जो कह दिए वही सही है। विज्ञान के युग में गूगल बता देता है कि कौन सी सड़क कहां बनी है और कौन सी फैक्ट्री कहां लगी है।

भगवान राम वोट भी देने वाले नहीं है, वोट प्रदेश की जनता देगी। यहां तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दूसरे राज्य के फ्लाई-ओवर के साथ अपनी फोटो लगाकर खुद का प्रचार कर रहे हैं। भाजपा के राज में पहली बार ऐसा हुआ है कि श्मशान घाट से लाश गांव गई है। अब तक लाश गांव से श्मशान घाट जाती थी।

खबरें और भी हैं...