पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाराणसी का चौकाघाट दोहरा हत्याकांड:वारदात के सूत्रधार की कार गैगेंस्टर एक्ट के तहत जब्त, 10 माह बाद भी हत्थे नहीं चढ़ा 2 लाख का इनामी शूटर

वाराणसीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विवेक सिंह कट्‌टा की कार जब्त। - Dainik Bhaskar
विवेक सिंह कट्‌टा की कार जब्त।

वाराणसी के चौकाघाट दोहरे हत्याकांड के सूत्रधार जिला जेल में बंद विवेक सिंह कट्‌टा की स्विफ्ट डिजायर कार जैतपुरा थाने की पुलिस ने गैंगेस्टर एक्ट के तहत जब्त कर ली है। कार को वाराणसी लाने के लिए जैतपुरा इंस्पेक्टर पुलिस टीम के साथ जौनपुर जिले के जलालपुर थाना के लोहगाजर स्थित विवेक के घर गए थे।

14 आरोपी जेल में, 1 फरार

इस वारदात में 14 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। पुलिस को अभी भी इस दोहरे हत्याकांड में नरोत्तमपुर निवासी 2 लाख के इनामी बदमाश मनीष सिंह उर्फ सोनू की तलाश है। सुरागकशी और बनारस से लेकर बिहार तक दबिश देने के बाद भी 10 महीने से फरार इनामी मनीष का पता पुलिस नहीं लगा सकी।

28 अगस्त 2020 को दिनदहाड़े हुआ था डबल मर्डर

28 अगस्त 2020 को कैंट थाने के हिस्ट्रीशीटर अभिषेक सिंह प्रिंस और और उसके दोस्त दीपक गौड़ पर चौकाघाट में अंधाधुंध फायरिंग की गई थी। फायरिंग में अभिषेक और घटनास्थल से ट्रॉली लेकर गुजर रहा बाल्मीकि गौड़ मारा गया था, जबकि दीपक घायल हुआ था। दिनदहाड़े सरेराह हुई इस घटना के खुलासे के लिए क्राइम ब्रांच सहित पुलिस की 6 टीमें लगाई गई थी। सर्विलांस, सीसीटीवी कैमरों और सुरागकशी में सामने आया कि असलहा तस्करी की पुरानी रंजिश में विवेक सिंह कट्‌टा ने अभिषेक की हत्या की साजिश रची। इसके बाद शूटर मनीष और अन्य लड़कों का इस्तेमाल कर वारदात को अंजाम दिलाया।

पुलिस विवेक की तलाश कर ही थी कि 14 सितंबर 2020 काे चकमा देकर उसने जौनपुर जिले की अदालत में एक पुराने मामले में जमानत तुड़वा कर समर्पण कर दिया था। इसके बाद एक-एक कर 13 अन्य बदमाश जेल भेजे गए। इसके बाद पुलिस ने वारदात के सभी आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट की कार्रवाई की।

नेपाल के पहाड़ी इलाकों में छिपा हुआ है मनीष

एडीसीपी काशी जोन विकास कुमार त्रिपाठी ने बताया कि इस दौर में भी मनीष अपने पास मोबाइल नहीं रखता है। उसे जरूरत पड़ती है तो किसी का मोबाइल छीन कर बात करने के बाद उसे फेंक देता है। उसके घर के एक-एक सदस्यों की गतिविधियों पर पुलिस की निगरानी है। उसकी तलाश में क्राइम ब्रांच और एसटीएफ ने पूर्वांचल से लेकर बिहार के दर्जनों स्थानों पर छापा मारा लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ा। फिलहाल यही सूचना है कि वह नेपाल के पहाड़ी इलाकों में कहीं छुपा हुआ है।

खबरें और भी हैं...