धोखाधड़ी के आरोपी की बढ़ती ही जा रही मुश्किलें:वाराणसी में नीलगिरी इंफ्रॉसिटी का मालिक बंद है जेल में, रांची की अदालत ने जारी किया नोटिस; 11 सितंबर को होना है पेश

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी जिला जेल में बंद करोड़ों की धोखाधड़ी का आरोपी विकास सिंह। - Dainik Bhaskar
वाराणसी जिला जेल में बंद करोड़ों की धोखाधड़ी का आरोपी विकास सिंह।

जमीन और गोल्ड में निवेश के साथ ही टूर पैकेज के नाम पर 10 करोड़ से ज्यादा की धोखाधड़ी के आरोपी नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी के मालिक विकास सिंह की मुसीबत कम होने का नाम नहीं ले रही है। अब विकास के खिलाफ रांची के एडिशनल मुंसिफ चतुर्थ मनीष कुमार मिश्रा की अदालत ने नोटिस जारी किया है। अदालत ने कहा है कि 11 सितंबर को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन है। उस दिन अदालत के समक्ष ऑनलाइन या प्रत्यक्षत: प्रस्तुत होकर अपने विवादों का निस्तारण कराएं।

गौरतलब है कि विकास अपनी पत्नी और एक मैनेजर के साथ इन दिनों वाराणसी की जिला जेल में बंद है। विकास और उसके करीबियों के खिलाफ वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट के थानों में 38 मुकदमे दर्ज हैं। दर्ज मुकदमों की प्रभावी तरीके से जांच के लिए पुलिस कमिश्नर ने विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है।

पुलिस जेल जाकर नोटिस तामील कराएगी

विकास के खिलाफ झारखंड की अदालत से जारी हुआ नोटिस उसकी कंपनी गोल्डन स्काई टूर प्राइवेट लिमिटेड से संबंधित है। झारखंड के कई लोगों को विकास ने अपनी इस कंपनी में निवेश करा कर अच्छे मुनाफे का झांसा दिया था। निवेश करने वालों को बाद में समझ में आया कि वह ठगे गए हैं। उधर, पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि पुलिस टीम जिला जेल भेज कर विकास को नोटिस तामील कराएगी। जेल से ऑनलाइन माध्यम से वह अदालत के सामने पेश हो सकता है।

SIT जुटा रही संपत्तियों का ब्योरा

विकास, उसकी पत्नी और उसके करीबियों की धोखाधड़ी का ब्योरा 5 सदस्यीय SIT द्वारा जुटाया जा रहा है। इस संबंध में SIT ने इंकम टैक्स, डिस्ट्रिक्ट इंडस्ट्रीज डिपार्टमेंट, रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज, आरटीओ, बैंक, एसडीएम सदर, पिंडरा व राजातालाब, और वाराणसी विकास प्राधिकरण से मदद मांगी है। SIT अपनी जांच पूरी कर पुलिस कमिश्नर को रिपोर्ट सौंपेगी।

उधर, पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि विकास, उसकी पत्नी और उसके करीबियों के खिलाफ दर्ज मुकदमों की जांच प्रभावी और पारदर्शी तरीके से जल्द पूरी कराई जाएगी। इसके साथ ही पुलिस अदालत में आरोप पत्र दाखिल कर आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए प्रभावी तरीके से पैरवी भी करेगी।

खबरें और भी हैं...