जन्म-कुंडली बताएगी आपकी गति, स्थिति, संगति, नियति:BHU में 10-11 नवंबर को इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस; भूटान, तिब्बत, यवन ज्योतिष के राज से उठेगा पर्दा

वाराणसी22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में ज्योतिष पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित होगा। 10-11 नवंबर को दो दिवसीय सम्मेलन में दुनिया भर के 300 से ज्यादा ख्याति ज्योतिषाचार्य जुटेंगे। भारत की हर पुरी और हर धाम से संस्कृत के बड़े विद्वान आएंगे। भारत के धर्म-अध्यात्मिक नगरी के साथ ही भूटान, तिब्बत, नेपाल आदि देशों से भी ज्याेतिषाचार्य आ रहे हैं। BHU के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के सभागार में सुबह साढ़े 10 बजे से शाम 6 बजे तक यह कार्यक्रम होगा।

BHU का सिंह द्वार।
BHU का सिंह द्वार।

ज्योतिष विभाग के प्रो. सुभाष पांडेय के अनुसार, सम्मेलन में जन्म कुंडली के द्वारा धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष के बारे में गणना की जाएगी। बच्चे के जन्म होते ही उसका पूरा जीवन कैसा गुजरेगा। उसके जीवन में क्या-क्या कठिनाइयां या अच्छाईयां होंगी, इन सबके बारे में बताया जाएगा। अर्थात एक इंसान की गति, स्थिति, संगति और पूरी नियति के बारे में जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में इस विषय पर आधारित सैकड़ों रिसर्च पेपर प्रस्तुत किए जाएंगे। वहीं, इस सम्मेलन की रिपोर्ट को तैयार करके सरकार को भेजा जाएगा। जिससे ज्योतिष विद्या मानवता के लिए अच्छे से इस्तेमाल हो सके।

प्रो. सुभाष पांडेय।
प्रो. सुभाष पांडेय।

दक्षिण भारत और यवनों की ज्योतिष परंपरा से उठेगा पर्दा

प्रो. पांडेय ने कहा कि तिब्बत और भूटान के साथ ही दक्षिण भारत और यवनों की ज्योतिष परंपराओं के भी रहस्यों से पर्दा उठेगा। संगोष्ठी का शुभारंभ राज्यसभा सांसद सीमा द्विवेदी करेंगी और समापन केंद्रीय मंत्री महेंद्रनाथ पांडेय करेंगे।

ये प्रमुख विशेषज्ञ बताएंगे कुंडली के आधार पर बच्चे का भविष्य

  • प्रो. देवी प्रसाद त्रिपाठी पूर्व कुलपति उत्तराखंड
  • प्रो. भारत भूषण मिश्र, राष्ट्रीय संस्थान, मुंबई
  • प्रो. प्रेम कुमार शर्मा, लाल बहादुर शास्त्री केंद्रीय विवि, दिल्ली
  • प्रो. नागेंद्र पांडेय, अध्यक्ष, काशी विश्वनाथ ट्रस्ट
  • प्रो. कामेश्वर उपाध्याय, वाराणसी
  • प्रो. चंद्रमौली उपाध्याय, वाराणसी
  • प्रो. रामचंद्र पांडेय, वाराणसी
  • प्रो. श्यामदेव मिश्रा जम्मू,
  • प्रो. कृष्ण कुमार पांडेय महाराष्ट्र,
  • प्रो. मदन मोहन पाठक कांगड़ा
  • प्रो. राधाकांत ठाकुर तिरुपति
  • प्रो. अंबर राज ढकाल नेपाल
  • धर्मराज बराल नेपाल
  • पं. हरिप्रसाद बिरौला, भास्कर पंचांग थिंपू