पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐप से वेद-पुराण पढ़ेंगे छात्र:वाराणसी के संस्कृत विश्वविद्यालय और लखनऊ यूनिवर्सिटी के बीच होगा समझौता, ऐप का नाम स्लेट

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी स्थित सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय और लखनऊ विश्वविद्यालय के बीच ऑनलाइन कक्षाओं के लिए परस्पर समझौता (एमओयू) किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए शुक्रवार की शाम 'दैनिक भास्कर' से दोनों विश्वविद्यालयों के कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय ने बताया कि ऑनलाइन शैक्षिक समझौते के तहत लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किया ऐप स्लेट (SLATE) का प्रयोग किया जाएगा।

प्रो. राय ने बताया कि स्लेट (स्ट्रैटेजनिक लर्निंग ऐप्लिकेशन फॉर ट्रांसफार्मेटिव एजुकेशन) को नई शिक्षा नीति के निर्देशों का पालन करते हुए शैक्षिक गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा गया है। समझौते के बाद स्लेट के बारे में लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रशिक्षित अध्यापक वाराणसी आकर संस्कृत विश्विद्यालय के अध्यापकों को प्रशिक्षित करेंगे। स्लेट एक लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम ही नहीं है, बल्कि छात्र हित में उठाया गया एक अद्वितीय कदम है। स्लेट डिजिटल इंडिया, आत्मनिर्भर भारत और ई-शिक्षा आदि को समावेशित किए हुए है। इसके तहत एक कक्षा में विद्यार्थियों के जुड़ने के लिये संख्या की कोई सीमा निश्चित नहीं है।

कुलपति ने कहा कि स्लेट के अन्तर्गत विद्यार्थियों की ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की जाएंगी। शिक्षा सामग्री एवं ऑनलाइन टेस्ट भी कराया जाएगा। विद्यार्थी एसाइनमेंट भी पूरे कर जमा कर सकेंगे। उनकी कक्षा में उपस्थिति की निगरानी भी की जा सकेगी। स्लेट से सफेद बोर्ड पर अध्यापन और वेबिनार आदि किया जा सकेगा। स्लेट का उपयोग लैपटॉप, कंप्यूटर और मोबाइल पर आसानी से किया जा सकता है। यहां पर भारत और अन्य देशों के भी विद्यार्थी सम्पूर्ण वेद शास्त्रों का अध्ययन आसान और सुगम तरीके से कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं...