बिजली गिरने से बच्चों सहित 3 की मौत:काशी में मांधातेश्वर महादेव मंदिर का शिखर हुआ क्षतिग्रस्त; बचे श्रद्धालु

वाराणसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिजली गिरने से मांधातेश्वर मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त हो गया। - Dainik Bhaskar
बिजली गिरने से मांधातेश्वर मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त हो गया।

वाराणसी में मंगलवार को हुई झमाझम बारिश के बीच बिजली गिरने से दो बच्चों और एक महिला की जान चली गई। दीवानी कचहरी परिसर में टिनशेड गिरने से अधिवक्ता बाल-बाल बचे। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के मांधातेश्वर मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त हो गया। धाम परिसर में मौजूद श्रद्धालु बाल-बाल बच गए।

घर के बाहर थे दोनों बच्चे और महिला

अदमापुर (महनाग) बस्ती में अवनीश यादव का छोटा बेटा लल्ला यादव (12), भदोही के गिरधरपुर गांव से ननिहाल में आया हुआ भुवर यादव (15), गांव में बच्चों के साथ क्रिकेट खेल रहा था। उसी दौरान बिजली गिरी और दोनों बच्चों की मौके पर ही झुलस कर मौत हो गई। लल्ला यादव 2 भाइयों में छोटा था और भुंवर यादव 2 भाइयों में बड़ा था।

दुर्गावती देवी- फाइल फोटो।
दुर्गावती देवी- फाइल फोटो।

भुवर यादव जवाहर नवोदय विद्यालय में कक्षा 9 का छात्र था और लल्ला यादव कक्षा 7 में पढ़ता था। घटना से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। वहीं, बड़ागांव थाना अंतर्गत टिकरी खुर्द निवासी श्यामजी पाल की पत्नी दुर्गावती देवी (34) गोबर फेंकने जा रही थी। उसी दौरान बिजली गिरी और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

ग्रामीणों के अनुसार, दुर्गावती देवी गांव के सरकारी स्कूल में रसोइयां के तौर पर काम करती थी। टिकरी खुर्द गांव में बिजली गिरने से सोनू पटेल की भैंस की भी मौत हो गई। उधर, बारिश के दौरान वाराणसी की दीवानी कचहरी परिसर स्थित अधिवक्ताओं का टिनशेड तेज आवाज के साथ गिरा। संयोग अच्छा था कि आसपास मौजूद अधिवक्ता और वादकारी बाल-बाल बच गए।

मांधातेश्वर मंदिर के टूटे हुए शिखर के साथ पुजारी।
मांधातेश्वर मंदिर के टूटे हुए शिखर के साथ पुजारी।

मांधातेश्वर महादेव मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम परिसर में भारत माता की प्रतिमा के समीप मांधातेश्वर महादेव का मंदिर है। मंदिर में शाम की आरती के बाद उसके शिखर पर बिजली गिरी तो वह भहरा कर नीचे गिर गया। मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बताया कि बारिश शुरू होने के बाद श्रद्धालु धाम के जलपान केंद्र और अन्य हॉल के अंदर चले गए थे।

बिजली गिरने के दौरान मंदिर के आसपास कोई श्रद्धालु मौजूद नहीं था। शिखर और उसका कलश बिजली गिरने से क्षतिग्रस्त हो गया है। इसके अलावा कोई भी जनहानि नहीं हुई है। शिखर और उसके कलश के क्षतिग्रस्त टुकड़े को हटवा दिया गया है। शिखर की मरम्मत का काम जल्द कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...