पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • To Save From Dengue, BHU Professors Distributed Giloy In Varanasi's Kashi Vidyapeeth Block, Said; Along With Increasing Platelets, It Is Also Anti fever.

आयुर्वेदचार्याें ने समझाया औषधीय पौधों का विज्ञान:डेंगू से बचाने के लिए वाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्लॉक में BHU के प्रोफेसरों ने बांटा गिलोय; प्लेटलेट्स बढ़ाने के साथ बुखार नाशक भी बताया

10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्लॉक में गिलोय मिशन जागरूकता अभियान कार्यक्रम के मुख्य अधिकारी प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी ने ग्रामीण छात्रों और किसानों में बांटा गिलोय का पौधा। - Dainik Bhaskar
वाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्लॉक में गिलोय मिशन जागरूकता अभियान कार्यक्रम के मुख्य अधिकारी प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी ने ग्रामीण छात्रों और किसानों में बांटा गिलोय का पौधा।

वाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्लॉक में आज गिलोय, अश्वगंधा, ज्वरांकुश, ब्राम्ही आदि पौधों का वितरण किया गया। काशी हिंदू विश्व विद्यालय और नेशनल मेडिसिन प्लांट बोर्ड ने आयुष आपके द्वार कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए ग्रामीणों को इन औषधीय गुणों वाले पौधों को बांटने के साथ उसका विज्ञान भी समझाया। डेंगू के बढ़ते मामले और कोरोना के खतरे के बीच गिलोय को दैनिक जीवन में शामिल करने की आवश्यकता बताई गई। BHU के आयुर्वेदाचार्याें ने बताया कि गिलोय का जूस खून में व्हाइट ब्लड सेल्स को बढ़ाता है। इसके नियमित सेवन से ब्लड के प्लेटलेट्स बढ़ते हैं। वहीं इसे बुखारनाशक भी कहा गया है। इसकी खूबी जिसने जान ली वह इसका आदि हो गया।

घर के लॉन में लगाए गिलोय और रहें रोग मुक्त

आयुर्वेद की युक्ति, रोग से मुक्ति पर बोलते हुए काशी हिंदू विश्वविद्यालय में आयुर्वेद संकाय के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सुशील वैद्य ने कहा कि गिलोय की औषधीय उपयोगिता प्रतिरोधकता को मजबूत बनाए रखने में काफी ज्यादा है। गिलोय मिशन जागरूकता अभियान कार्यक्रम के मुख्य अधिकारी प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी ने कहा कि इसका चाय, काढ़ा, सूप आदि के इस्तेमाल में लाया जा सकता है। वहीं इसे अपने घर के लॉन में भी लगाया जा सकता है। कोरोना जल्द ही अपने पांव पसार लेगा इस लिहाज से गिलोय का महत्व काफी बढ़ गया है।

एंटी आक्सीडेंट का सबसे बड़ा स्रोत

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मेवालाल प्रजापति ने कहा कि संस्था अपने स्तर पर गांव-गांव में गिलोय के प्रचार प्रसार के लिए कार्य करेगी। गिलोय एंटीऑक्सिडेंट का सबसे बड़ा स्रोत है। जर्म्स से लड़कर आपके सेल्स को स्वस्थ रखते हैं और बीमारियों से छुटकारा दिलाता है। गिलोय बैक्टीरिया को मारने के साथ ही फ्री रेडिकल्स को खत्मकर इम्यूनिटी को बढ़ाया जा सकता है। वहीं त्वचा रोगों से भी राहत दिलाता है। इस दौरान कार्यक्रम में BHU से डॉ. आरएस सिंह, वीके श्रीवास्तव, दीपेंद्र नाथ वर्मा, गणेश विश्वकर्मा, कृष्ण कुमार, डॉ. राजकुमार कुशवाहा, जूही श्रीवास्तव, राम कृष्णा शर्मा ,महेश कुमार, सुरेश कुमार,मुकेश कुमार समेत 40 के अधिक लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...