• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Today, The Second Dose Of Corona Vaccine Will Be Administered At 87 Centers In Varanasi, Lok Adalat Will Be Organized; Two Actors Of Nilgiri Infracity In Police Remand

बनारस की बड़ी खबरें LIVE:आज 87 केंद्रों पर कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगेगी, होगा लोक अदालत का आयोजन; 2 जालसाज 3 दिन की रिमांड पर

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी में शनिवार को 87 टीकाकरण केंद्रों कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई जाएगी। दीवानी कचहरी परिसर में आज राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा। करोड़ों की धोखाधड़ी का आरोपी नीलगिरी इंफ्रॉसिटी कंपनी का मालिक विकास सिंह और उसका मैनेजर प्रदीप यादव आज सुबह 8 बजे से 3 दिन तक पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेंगे।

28 हजार लोगों को लगेगी वैक्सीन

सीएमओ डॉ. वीबी सिंह ने बताया कि शनिवार को सुबह 10 से 4 बजे के बीच जिले के 87 टीकाकरण केंद्रों पर कोरोना वैक्सीन की सिर्फ दूसरी डोज लगाई जाएगी। इसमें शहरी क्षेत्र के 43 केंद्र, 7 वर्क प्लेस, 1 महिला स्पेशल, 1 अंतरराष्ट्रीय स्पेशल केंद्र और ग्रामीण इलाके के 35 केंद्र शामिल हैं। इन टीकाकरण केंद्रों पर 28,250 लोगों को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगाने का लक्ष्य रखा गया है। टीकाकरण केंद्रों पर ऑनलाइन स्लॉट बुक कराने वालों और सीधे आने वालों को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई जाएगी।

आज मेगा लोक अदालत का आयोजन

दीवानी कचहरी परिसर में आज मेगा लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा। इसमें राजस्व, परिवहन, दूरसंचार, विद्युत, खाद्य रसद, चकबंदी, स्टांप, विशेष भूमि अध्यापित अधिकारी, मनोरंजन कर, बाट-माप, श्रम, आबकारी और यातायात पुलिस से जुड़े प्रकरणों का निस्तारण सुलह समझौते के आधार पर होगा। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव कुमुदलता त्रिपाठी ने अपील की है कि ज्यादा से ज्यादा लोग सिविल नेचर के अपने विवादित प्रकरणों का निस्तारण लोक अदालत के माध्यम से करा लें।

विकास सिंह और प्रदीप यादव को 30 अगस्त 2021 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।
विकास सिंह और प्रदीप यादव को 30 अगस्त 2021 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

आज से 3 दिन की रिमांड पर 2 जालसाज

वाराणसी के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट भारतेंद्र सिंह की अदालत ने करोड़ों की धोखाधड़ी के आरोप में जेल में बंद आरोपी नीलगिरी इंफ्रॉसिटी कंपनी के सीएमडी विकास सिंह और मैनेजर प्रदीप यादव को 3 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर देने का आदेश दिया है। रिमांड की अवधि शनिवार सुबह 8 बजे से शुरू हुई है। विवेचक ने कोर्ट में आवेदन दिया था कि दोनों आरोपियों ने आम जनता को धोखा देकर करोड़ों रुपए हड़प लिए है। अपनी संपत्ति और दस्तावेज दोनों ने झारखंड, बिहार और गुजरात में छुपा रखा है। इसलिए दस्तावेजों और संपत्तियों का बरामद किया जाना आवश्यक है। विवेचक के आवेदन पर अदालत ने दोनों की 3 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड स्वीकार कर ली।

खबरें और भी हैं...