ई-व्यापार के खिलाफ उतरे सड़क पर:वाराणसी में व्यापारियों ने मार्च निकाल कर किया प्रदर्शन, खुदरा व्यापार को बचाने की लगाई गुहार; बोले- बंद हो जाएंगी हमारी दुकानें

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ई-व्यापार के खिलाफ वाराणसी में पैदल मार्च निकालते व्यापारी। - Dainik Bhaskar
ई-व्यापार के खिलाफ वाराणसी में पैदल मार्च निकालते व्यापारी।

वाराणसी में शुक्रवार को सामाजिक संस्था सुबह-ए-बनारस क्लब के बैनर तले व्यापारियों ने ई-व्यापार के खिलाफ पैदल मार्च निकाल कर प्रदर्शन किया। मैदागिन चौराहा से पूर्वांचल की सबसे बड़ी गल्ला मंडी विश्वेश्वरगंज पहुंचे व्यापारियों ने कहा कि देश के खुदरा व्यापार को ई-व्यापार पूरी तरह से निगल रहा है। इसे अगर रोका नहीं गया तो देश की ज्यादातर दुकानें बंद हो जाएंगी और व्यापारी भुखमरी के शिकार हो जाएंगे। सरकार अगर हमारी गुहार नहीं सुनी तो हम सभी बड़े पैमाने पर बेमियादी आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

सरकारी सहमति से बड़ी कंपनियों को हो रहा फायदा

सुबह-ए-बनारस क्लब के अध्यक्ष मुकेश जायसवाल और महासचिव राजन सोनी ने संयुक्त रूप से कहा कि भारत सरकार की सहमति से कई बड़ी कंपनियां ऑनलाइन ट्रेडिंग कर रही हैं। इस तरह से उन बड़ी-बड़ी कंपनियों और ग्रुप को फायदा पहुंचाया जा रहा है। इसके चलते खुदरा बाजार तबाह और बर्बाद हो रहा है। ई-व्यापार के कारण छोटे-मझोले व्यापारियों को अपना अस्तित्व बचाना टेढ़ा खीर साबित होगा।

जालपा देवी व्यापार मंडल के अध्यक्ष अनिल केसरी ने कहा कि सुरसा डायन की तरह मुंह बाए ई-कारोबार ने छोटे-मझोले व्यापारियों को निगलने में कोई कोरकसर नहीं छोड़ी है। छोटे व्यापारी बड़ी सहजता से इसके शिकार होते जा रहे हैं। ऑनलाइन व्यापार से होने वाली क्षति, आपसी प्रतिस्पर्धा, कम हो रही बिक्री, कोरोना महामारी और भीषण मंदी की वजह से टूट चुके व्यापारी कम मुनाफे में अपने माल को बाजार में बेचने के बाद भी जरूरत के हिसाब से कमाई नहीं कर पा रहे हैं। इसकी वजह से वह आर्थिक रूप से टूटते जा रहे हैं।

सरकार को लेना होगा ठोस निर्णय

विशेश्वरगंज व्यापार मंडल के अध्यक्ष अशोक गुप्ता और नीचीबाग व्यापार मंडल के अध्यक्ष प्रदीप गुप्त ने कहा कि किराए में ली हुई महंगी दुकान, महंगी बिजली और स्टाफ को देने वाले वेतन का खर्चा उठाना छोटे और मझोले दुकानदारों के लिए काफी मुश्किल हो रहा है। ऐसे में ऑनलाइन कारोबार ने हमारे धंधे में पूरी तरह से सेंध लगाने का काम किया है।

सरकार को व्यापारियों की गंभीर समस्याओं के बारे में गंभीरता से सोचते हुए ठोस निर्णय लेना होगा। पैदल मार्च में क्लब के कोषाध्यक्ष नंदकुमार टोपी वाले, चंद्रशेखर चौधरी, राजेश केसरी, डॉ. मनोज यादव, पंकज पाठक, सुनील, अहमद खान, राजेश श्रीवास्तव, संजू विश्वकर्मा, अभिषेक विश्वकर्मा, प्रकाश मौर्य, पप्पू रस्तोगी सहित कई व्यापारी शामिल थे।

खबरें और भी हैं...