वाराणसी में बिना परमिट चल रहे 3500 ऑटो होंगे जब्त:नए ऑटो की हर दो साल में फिटनेस जांच जरूरी, फिटनेस न होने से यात्रियों की जान को खतरा

वाराणसी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी जिले में 3 हजार 500 ऑटो  बिना फिटनेस के ही चल रहे हैं। आरटीओ अब अनफिट ऑटो के खिलाफ अभियान चलाकर जब्त कराने की तैयारी में है। - Dainik Bhaskar
वाराणसी जिले में 3 हजार 500 ऑटो बिना फिटनेस के ही चल रहे हैं। आरटीओ अब अनफिट ऑटो के खिलाफ अभियान चलाकर जब्त कराने की तैयारी में है।

वाराणसी जिले में 3 हजार 500 ऑटो बिना फटनेस के ही चल रहे हैं। इनमें से कई ऐसे ऑटो हैं, जिनकी फिटनेस कोरोना काल से पहले से खत्म है। ऐसे ऑटो में सफर से सवारियों की जान खतरे में है। अनफिट ऑटो अभियान चलाकर जब्त किए जाएंगे। ऑटो की फिटनेस जांच के अलावा चालकों से 15 हजार रुपए जुर्माना वसूलने के बाद छोड़े जाएंगे।

16 हजार से अधिक जिले में ऑटो हैं पंजीकृत
जिले के आरटीओ में करीब 16 हजार से अधिक ऑटो पंजीकृत हैं। इनमें से 25 फीसदी से अधिक ऑटो की फिटनेस जांच नहीं हुई है। एआरटीओ प्रशासन सर्वेश चतुर्वेदी ने कहा कि अनफिट ऑटो कभी भी दुर्घटना ग्रस्त हो सकता और सवारियों की जान खतरे में पड़ सकती है। इसलिए सड़क पर दौड़ते पाए जाने पर इन ऑटो को जब्त किया जाएगा। प्रदूषण जांच न होने पर दस हजार रुपये और अनफिट वाहन चलाने के कारण पांच हजार रुपये यानि कुल 15 हजार रुपए का जुर्माना लिया जाएगा।

यह है फिटनेस जांच की फीस
परिवहन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सीएनजी ऑटो को 15 साल तक चलाने की अनुमति है। नए ऑटो की प्रत्येक दो साल में फिटनेस जांच की जाती है। ऑटो की फिटनेस फीस 600 रुपए है। इसमें 400 रुपए फिटनेस शुल्क और 200 रुपए प्रमाणपत्र की फीस है। यह शुल्क सरकार की ओर से निर्धारित है।

30 सितंबर तक दिया गया था समय
शासन ने ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन संबंधी दस्तावेजों की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ा दी थी। यह छूट उन लोगों के लिए थी, जिनके वाहन के दस्तावेजों की अवधि एक फरवरी 2020 या उसके बाद खत्म हो रही थी।

यह है ऑटो फिटनेस का नियम
परिवहन विभाग के अनुसार फिटनेस में ऑटो के हर हिस्से की जांच की जाती है। इसमें ऑटो के ब्रेक, हेड लाइट, बॉडी समेत सभी हिस्से शामिल हैं। यदि किसी भी हिस्से में कमी मिलती है तो उसे दुरुस्त कराकर फिर से फिटनेस जांच के लिए लाने को कहा जाता है। फिटनेस प्रमाणपत्र तब तक जारी नहीं किया जाता है जब तक सभी हिस्से जांच में दुरुस्त नहीं पाए जाते हैं।

खबरें और भी हैं...