तीन घंटे की मशक्कत के बाद बुझाई आग:वाराणसी में 4 मंजिला इमारत में आग लगी, सीएफओ ने हाइड्रॉलिक प्लेटफॉर्म की मदद से 8 लोगों की जान बचाई

वाराणसी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अग्निशमन विभाग की 4 गाड़ियों ने तकरीबन साढ़े तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबू पाया। - Dainik Bhaskar
अग्निशमन विभाग की 4 गाड़ियों ने तकरीबन साढ़े तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबू पाया।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी के अंधरापुल स्थित एक 4 मंजिला इमारत में रविवार की शाम आग लग गई। सूचना पाकर पहुंचे मुख्य अग्निशमन अधिकारी अनिमेष कुमार सिंह ने बिल्डिंग में फंसी 9 माह की बच्ची सहित 8 लोगों को हाइड्रॉलिक प्लेटफार्म की मदद से सुरक्षित बाहर निकाला। अग्निशमन विभाग की 4 गाड़ियों ने तकरीबन साढ़े तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबू पाया। वहीं आग लगने की वजह से घटनास्थल पर उमड़ी तमाशबीनों की भीड़ के कारण अंधरापुल क्षेत्र और उसके इर्दगिर्द जाम लग गया था।

इलेक्ट्रिक बोर्ड में शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी थी आग

अंधरापुल क्षेत्र में 4 मंजिला इमारत में भूतल पर जूते-सैंडिल की बड़ी दुकान है। जूतों-सैंडिल का एक स्टोर रूम इमारत के प्रथम तल पर भी है। उसी के लगे इलेक्ट्रिक बोर्ड में शाम के समय शॉर्ट सर्किट से आग लगी और धीरे-धीरे जूतों के स्टोर तक पहुंच गई। प्रथम तल में मौजूद संजीव कुमार गंभीर को आग लगने की जानकारी हुई तो वह परिवार की शिखा गंभीर, अंजली गंभीर, गायत्री गंभीर, 5 वर्षीय अक्षर गंभीर, 9 माह की आद्या गंभीर, रेखा और सोनी को लेकर दूसरे तल पर चले गए।

उन्होंने 112 नंबर और फायर ब्रिगेड को फोन कर घटना की सूचना दी। जूतों और चप्पलों में आग लगने के कारण बिल्डिंग के सभी फ्लोर पर जबरदस्त धुआं भर गया था। सूचना के आधार पर दमकल कर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे मुख्य अग्निशमन अधिकारी ने हाइड्रॉलिक प्लेटफॉर्म की मदद से परिवार के एक-एक सदस्यों को बाहर निकाला। इसके बाद प्रथम तल के खिड़की-दरवाजों को खोला। उधर, संजीव ने बताया कि आग लगने की वजह से लाखों की क्षति हुई है। फर्स्ट फ्लोर पर रखे हुए माल के साथ ही घर का भी सारा सामान जल गया है।

एक ही सीढ़ी थी इस वजह से हुई दिक्कत, दो तरफ से होनी चाहिए

मुख्य अग्निशमन अधिकारी ने कहा कि बहुमंजिला इमारत में ग्राउंड फ्लोर से ऊपर जाने के लिए सिर्फ एक ही सीढ़ी थी। इस वजह से आग बुझाने के काम में दिक्कत हुई। जूते-चप्पल में तरह-तरह के केमिकल भी होते हैं, इस वजह से उसका धुआं दमघोंटू होता है। जो भी बहुमंजिला इमारत बनवाएं उनमें कम से कम दो तरफ से सीढ़ी जरूर बनवाएं। दो रास्ते रहने से आग लगने जैसी विपरीत स्थिति में राहत और बचाव के काम में आसानी होती है।

खबरें और भी हैं...