काशी पहुंची जयपुर में बनी कागज की चप्पलें:ठंड को देखते हुए विश्वनाथ दरबार में दर्शनार्थियों-पुजारियों और सुरक्षा कर्मियों के लिए की गई व्यवस्था

वाराणसी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खादी ग्रामोद्योग आयोग के निदेशक डीएस भाटी ने बताया कि अभी प्रायोगिक तौर पर 500 जोड़ी कागज की चप्पल प्रदर्शनी के लिए लाई गई हैं। - Dainik Bhaskar
खादी ग्रामोद्योग आयोग के निदेशक डीएस भाटी ने बताया कि अभी प्रायोगिक तौर पर 500 जोड़ी कागज की चप्पल प्रदर्शनी के लिए लाई गई हैं।

वाराणसी स्थित श्री काशी विश्वनाथ धाम आने वाले श्रद्धालु अब नंगे पांव गर्भगृह तक नहीं जाएंगे। उनकी सुविधा के लिए हाथ से बनी कागज की चप्पलें अब बाजार में उपलब्ध करा दी गई हैं। धाम में नंगे पैर दर्शन करने में श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी को देखते हुए मंदिर प्रशासन की पहल पर खादी और ग्रामोद्योग ने इसे तैयार कराया है। खादी कागज की चप्पलें सेवापुरी के गांधी आश्रम में तैयार होंगी, जिससे धाम में मांग को पूरा किया जा सकेगा। शुक्रवार को गोदौलिया स्थित खादी भंडार के एक केंद्र में कागज के चप्पलों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। इन्हें ट्रायल के लिए जयपुर से मंगाया गया था।

जल्द काशी में बनेगीं कागज की चप्पलें

खादी ग्रामोद्योग आयोग के निदेशक डीएस भाटी ने बताया कि अभी प्रायोगिक तौर पर 500 जोड़ी कागज की चप्पल प्रदर्शनी के लिए लाई गई हैं। जल्द ही इसका प्रशिक्षण सेवापुरी में बनारस के कारीगरों को देकर इन्हें यहीं तैयार किया जाएगा। इससे लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा और धाम में दर्शन करने आने वाले शिव भक्तों की जरूरतें भी पूरी की जा सकेगी।

पूजापाठ में कर सकेंगे प्रयोग, कीमत 50 रुपए

खादी का यह चप्पल देखने में भी खूबसूरत है। यह सफेद रंग की है। चप्पल के तलवे में मोटी दफ्ती का इस्तेमाल किया गया है। इसकी खासियत यह है कि अगर इसे पानी से बचाया जाए तो कई बार उपयोग में लाया जा सकता है। इसका इस्तेमाल लोग घर में भी पूजापाठ में भी कर सकेंगे। जानकारी के मुताबिक, इसकी कीमत 50 रुपए रखी गई है। यूज एंड थ्रो वाली यह चप्पलें खादी की दुकान पर उपलब्ध होंगी।

काशी हस्त कला प्रतिष्ठान गोदौलिया पर अभी उपलब्ध

काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में बाबा विश्वनाथ के पूजन-अर्चन में दर्शनार्थियों, पुजारियों और सुरक्षा कर्मियों के पावों को कड़ाके की ठंड और तपती धूप से सुरक्षित रखने के लिए यह पहल की गई है। विश्वनाथ कॉरिडोर के पास गोदौलिया चौराहे पर स्थित खादी और ग्रामोद्योग आयोग से पंजीकृत संस्था काशी हस्त कला प्रतिष्ठान द्वारा हाथ कागज से निर्मित पादुका के बिक्री भंडार का उद्घाटन हुआ है।

खबरें और भी हैं...