• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Varanasi Is In Mourning Due To The Death Of Pandit Birju Maharaj, Mahant Prof. Mishra Said Such Virtuous Souls Do Not Incarnate Again And Again.

जब संकट मोचन में नटवर नागर बने बिरजू महाराज:पं. साजन मिश्र बोले- काशी आने का वादा अधूरा छोड़ गए महाराज जी... पढ़िए 4 किस्से

वाराणसी5 महीने पहलेलेखक: पुष्पेंद्र कुमार त्रिपाठी

कथक सम्राट पद्म विभूषण पंडित बिरजू महाराज अब हमारे बीच नहीं हैं। रविवार की देर रात उन्हें हार्ट अटैक आया और उनका निधन हो गया। वे 83 साल के थे। यूं तो पंडित बिरजू महाराज की वंशावली पर लखनऊ घराने की मुहर लगी थी, लेकिन उनकी हस्ती कभी बनारस घराने से जुदा नहीं समझी गई।

यही वजह थी कि उनकी थिरकन में संगीत के तीर्थ बनारस की कथक शैली की छाप साफ नजर आती थी। महाराज जी के नाम से लोकप्रिय रहे पंडित बिरजू महाराज के निधन का समाचार सुनकर काशी के कला और संस्कृति के क्षेत्र के लोगों के साथ ही सामाजिक सरोकार से जुड़े लोग शोक में डूब गए हैं।

पद्म भूषण पंडित साजन मिश्र, BHU-IIT के प्रोफेसर विश्वंभरनाथ और उनकी शिष्या कविता मिश्र ने पंडित बिरजू महाराज से जुड़ी यादें दैनिक भास्कर से साझा की... आप भी पढ़िए...!

संकटमोचन संगीत समारोह में भावपूर्ण मुद्रा में पंडित बिरजू महाराज। - फाइल फोटो
संकटमोचन संगीत समारोह में भावपूर्ण मुद्रा में पंडित बिरजू महाराज। - फाइल फोटो

ससुराल के साथ ही काशी में समधियाना भी था

पंडित बिरजू महाराज ने एक बार काशी में कहा था कि 17वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में बनारस स्टेट के हंडिया क्षेत्र (अब प्रयागराज जिले की तहसील) के नृत्य साधकों का एक परिवार तत्कालीन अवध के नवाब आसिफुद्दौला के बुलावे पर लखनऊ आया था। उनके दरबार के चुनिंदा रत्नों में शामिल हुआ। कथक सम्राट पं. बिरजू महाराज उसी कुलवंश के चश्मे-चिराग हैं। रिश्तों की बात करें तो गिरिजा देवी के गुरु पंडित श्रीचंद्र मिश्र की पुत्री लक्ष्मी देवी महाराज जी की जीवन संगिनी बनीं।

वहीं, विख्यात सारंगी वादक पंडित हनुमान प्रसाद मिश्र के छोटे पुत्र पंडित साजन मिश्र के साथ महाराज जी की बड़ी बेटी कविता का विवाह हुआ। पंडित बिरजू महाराज के एक भाई ने बनारस घराने के पंडित रामसहाय के सानिध्य में तबला वादन में निपुणता हासिल कर बनारस बाज शैली को बुलंदियों तक पहुंचाया।

काशी में पंडित बिरजू महाराज की भावपूर्ण मुद्रा। - फाइल फोटो
काशी में पंडित बिरजू महाराज की भावपूर्ण मुद्रा। - फाइल फोटो

संकटमोचन संगीत समारोह के प्रति थी विशेष आस्था

संकटमोचन मंदिर के महंत और BHU-IIT के प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र ने बताया कि संकटमोचन संगीत समारोह के प्रति महाराज जी की विशेष आस्था थी। महाराज जी कहते थे कि वाराणसी गुणी संगीतज्ञों की जन्म-कर्मस्थली है। इस समारोह की बेला में अपनी सृजनात्मक यात्रा को स्वयं के लिए पुण्य उपलब्धि मानता हूं। 2018 के समारोह में पंडित बिरजू महाराज ने कथक के भावों से और पंडित जसराज ने सुरों से नटवर नागर का स्वरूप सजाया था।

समारोह में मौजूद लोगों का मन मयूर इस कदर झूमा था कि उसकी अभिव्यक्ति हर-हर महादेव के उद्घोष के रूप में गूंजती रह गई थी। प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने कहा कि कोरोना महामारी का जब से प्रकोप देश और दुनिया में फैला तभी से महाराज जी यहां नहीं आए। आखिरी बार लगभग 3-4 महीने पहले उनसे बात हुई थी तो उन्होंने कहा था कि जल्द ही काशी फिर आना होगा। ऐसी पुण्य आत्माएं सदियों में एकाध बार ही अवतरित होती हैं।

कथक सम्राट को देख काशीवासी अपनी सुध-बुध खो जाते थे और सिर्फ हर-हर महादेव का उद्घोष होता था। - फाइल फोटो
कथक सम्राट को देख काशीवासी अपनी सुध-बुध खो जाते थे और सिर्फ हर-हर महादेव का उद्घोष होता था। - फाइल फोटो

हर-हर महादेव के उद्घोष से दिशाएं गूंजती हैं

पद्म भूषण पंडित साजन मिश्र ने साल 2021 में पंडित बिरजू महाराज के जन्मदिन से एक दिन पहले कहा था कि महाराज जी बनारस के किसी भी मंच पर उपस्थित हों तो हर-हर महादेव के उद्घोष से दिशाएं गूंज जाती हैं। वह जहां खड़े हो जाते हैं वहां स्वयं नटराज कृपा बरसाते हैं। हर पद संचलन और भाव मुद्रा में उनमें नटराज की छवि उतर आती है। उम्र की थकान के बावजूद चेहरे के विविध भावों और हाथों की अनूठी मुद्राओं की जीवंत प्रस्तुतियों से वह अपने प्रशंसकों को रिझा कर मंच पर छाए रहते हैं।

पंडित राजन-साजन मिश्र के साथ पंडित बिरजू महाराज। - फाइल फोटो
पंडित राजन-साजन मिश्र के साथ पंडित बिरजू महाराज। - फाइल फोटो

रियाज में रियायत नहीं देते थे

पंडित बिरजू महाराज की बड़ी पुत्री और उनकी शिष्या कविता मिश्र ने पिछले साल बताया था कि गुरुकुल में अन्य शिष्य हो या हम लोग... रियाज में वह किसी तरह की रियायत नहीं देते थे। नर्तन में कृष्ण की भाव भंगिमा हो या राधा रानी की कटाक्ष मुद्रा, क्या अंतर है। यह साधने में कई दिन गुजर जाते थे। उनका पखावज, वीणा या हारमोनियम वादन पर आज भी उनका गजब का अधिकार था। बता दें कि पंडित बिरजू महाराज को काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) ने डाक्टरेट की मानद उपाधि भी दी थी।

खबरें और भी हैं...