बैंक मैनेजर हत्या-लूट कांड:वाराणसी पुलिस ने 12.5 लाख रुपये और पिस्टल के साथ 2 बदमाशों को गिरफ्तार किया, दोनों पर था 25 और 50 हजार रुपये का इनाम

वाराणसी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी के फूलपुर क्षेत्र में बैंक मैनेजर की हत्या और 20 लाख रुपये की लूट के मामले में मंगलवार की शाम शूटर सहित 2 बदमाश गिरफ्तार किए गए। दोनों की निशानदेही पर लूटे गए 12.5 लाख रुपये, वारदात को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल की गई .32 बोर की देसी पिस्टल, 4 कारतूस, एक बाइक और बैंक मैनेजर का आई कार्ड व पैन कार्ड बरामद किया गया है।

शूटर की शिनाख्त गाजीपुर जिले के सादियाबाद थाना अंतर्गत बभनौली निवासी 50 हजार के इनामी बदमाश आर्यन पांडेय उर्फ राजू पांडेय उर्फ राजू पंडित के तौर पर हुई। वहीं दूसरा गाजीपुर जिले के नंदगंज थाना के सिरोही गांव निवासी 25 हजार का इनामी बदमाश सतपाल पासवान है। पुलिस को अब इस वारदात में 50 हजार के एक अन्य बदमाश धीरेंद्र सिंह की तलाश है।

अब तक 13 बदमाश गिरफ्तार, 13.5 लाख रुपये बरामद

बीती 9 जून को करखियांव स्थित पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजर फूलचंद राम की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। हत्या करने के बाद बदमाश उनकी स्कॉर्पियो में सीट के नीचे रखा 20 लाख रुपये से भरा एक बैग लेकर भाग निकले थे और 27 लाख रुपये से भरा बैग बच गया था। वारदात के सूत्रधार आलोक राय सहित 13 आरोपियों को पुलिस अब तक गिरफ्तार कर चुकी है और इन सभी के पास से लूटे गए 20 लाख में से 13.5 लाख रुपये बरामद किया है।

आलोक ने बड़ी प्राइवेट कंपनियों के सीएसआर फंड के माध्यम से पैसा दोगुना कराने का झांसा देकर बैंक मैनेजर को अपने जाल में फंसाया था। बैंक मैनेजर लगभग 50 लाख रुपये देने को तैयार हो गए तो आलोक की नीयत खराब हो गई। इसके बाद वह राजू पंडित, सतपाल और धीरेंद्र सिंह सहित अपने अन्य 10 दोस्तों को साथ लेकर मैनेजर की हत्या और लूट की साजिश रचा।

पैसे के लिए कुछ भी कर दूंगा, लोगों को दिखाना है कि मैं क्या हूं

गिरफ्तार राजू पंडित ने पूछताछ में पुलिस से कहा कि उसे जल्द ही ज्यादा पैसा कमाना है। इसके लिए वह कुछ भी करने को तैयार रहता है। आलोक ने जब उसे बैंक मैनेजर के पास 50 लाख रुपये नगद होने की बात बताई तो उसके मन में पैसा कमाने का भूत सवार हो गया।

राजू पंडित ने बताया कि उसी ने बैंक मैनेजर को गोली मारी थी और जल्दबाजी में स्कॉर्पियो में उनकी पैर के पास रखा एक बैग ही लेकर वह भाग निकला था। पूरी घटना उसी ने की थी, इस वजह से वह उसमें से तकरीबन 14 लाख रुपये निकाल लिया था। बाकी पैसा आलोक और धीरेंद्र ले लिए थे। इस वारदात के बाद वह 10 जून से अब तक बहुत घूमाफिरा। आलोक सहित अन्य की गिरफ्तारी की जानकारी पाकर वह अपनी जमानत की व्यवस्था कराने के लिए बनारस वापस आया था और इसी बीच न जाने कैसे पकड़ा गया।

गिरफ्तार सभी बदमाशों के खिलाफ की जाएगी गैंगेस्टर की कार्रवाई

एसपी ग्रामीण अमित वर्मा ने बताया कि सीओ पिंडरा अभिषेक कुमार पांडेय के नेतृत्व में इंस्पेक्टर फूलपुर दुर्गेश कुमार मिश्रा और उनकी टीम ने अच्छा काम किया है। बैंक मैनेजर की हत्या और लूट की वारदात को सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया था। इस वारदात में शामिल सभी आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

वारदात में वांछित इनामी बदमाश धीरेंद्र सिंह की गिरफ्तारी के लिए इंस्पेक्टर फूलपुर के नेतृत्व में एक टीम लगी हुई है। एसपी ग्रामीण ने कहा कि वारदात में प्रयुक्त देसी पिस्टल राजू पंडित के पास से बरामद हुई है। इसलिए उसके खिलाफ हत्या और लूट के अलावा एक अन्य मुकदमा आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...