• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Warden Accused Of Extortion On LBS Students' Dharna In Varanasi; Said Threatened By Calling In The Chamber, The Administration Said Recovery For Breaking CCTV

BHU में फिर से माहौल तनावपूर्ण:वाराणसी में LBS के छात्र धरने पर, वार्डेन पर जबरन वसूली का आरोप; कहा- चेंबर में बुलाकर दी धमकी, प्रशासन ने कहा CCTV तोड़ने पर वसूली

वाराणसी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में छात्र LBS हॉस्टल के वार्डेन पर मनमाना करने का आरोप लगाकर धरना दे रहे हैं। - Dainik Bhaskar
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में छात्र LBS हॉस्टल के वार्डेन पर मनमाना करने का आरोप लगाकर धरना दे रहे हैं।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में आज फिर से बवाल शुरू हो गया है। अभी-अभी BHU के लाल बहादुर शास्त्री छात्रावास (LBS हॉस्टल) के छात्रों और वार्डेन के बीच विवाद बढ़ने से माहौल तनावपूर्ण हो गया है। छात्र प्रॉक्टोरियल बोर्ड में धरने पर बैठ गए हैं। विश्वविद्यालय प्रशासन के विरोध में नारे लगाते हुए छात्रो ने वार्डेन प्रोफेसर अनिल सिंह पर अवैध पैसा वसूलने का आरोप लगाया है। कहा कि हॉस्टल के नोड्यूज के नाम पर छात्रों से मनमाना वसूली की जा रही है।

छात्रों ने कहा कि उन्हें नशे और कट्टा के अवैध मामलों में फंसाकर गिरफ्तार कराने की धमकी दी गई। वहीं एक छात्र ने बताया कि वार्डेन ने अकेले-अकेले चेंबर में बुलाकर छात्रों को लेट फीस के साथ हॉस्टल के नोड्यूज साइन करने की बात कही गई। वहीं 5वें सेमेस्टर के फीस जबरन वसूली की जा रही है। जबकि बीएचयू ने कहा था कि कोविड टाइम में हॉस्टल फीस नहीं ली जाएगी। वहीं 70 फीसदी छात्रों से नहीं लिया गया। धरना से पहले LBS के मुख्य गेट पर इस मामले पर वार्डेन के विरोध में करीब 50 की संख्या में छात्र जुटने लगे, तो हॉस्टल एडमिनिस्ट्रेशन ने बड़ी संख्या में सुरक्षाधिकारियों को वहां पर बुलवा लिया। इसके बाद बवाल और खींचतान काफी बढ़ गया।

CCTV कैमरे तोड़ने वालों से हो रही वसूली
धरना से पहले हॉस्टल कोआर्डिनेटर डॉ. ज्ञान प्रकाश मिश्र छात्रों को समझाने पहुंचे थे, लेकिन बात नहीं बनी। वहीं हॉस्टल एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि पिछले दिनों छात्रों ने बाहर से कुछ उपद्रवियों को बुलाए थे, जिन्होंने हॉस्टल के कई CCTV कैमरे तोड़ दिए थे। इसके अलावा पूरी बिजली की लाइन को भी ध्वस्त कर दिया था। इसलिए उन सभी छात्रों से अतिरिक्त शुल्क वसूला जा रहा है और इन्हें बुरा लग रहा है। छात्रों ने बताया कि जिस समय में विश्वविद्यालय बंद था और नए सिरे से हॉस्टल एलॉट नहीं था तो उस टर्म के भी पैसे मांगे जा रहे हैं। जबकि उनके पहले के सेमेस्टर वालों से कोई हॉस्टल फीस नहीं ली गई। इस पर हॉस्टल वार्डेन ने बताया कि विश्वविद्यालय प्रशासन के नियमों के अनुसार कार्यवाही की जा रही है। छात्रों ने बताया कि कोविड-19 के चलते उन्होंने हॉस्टल की किसी भी सुख-सुविधा का लाभ नहीं उठाया।

खबरें और भी हैं...