108 साल पहले चोरी हुई अन्नपूर्णा प्रतिमा UP को हैंडओवर:भारतीय मूल की दिव्या ने कनाडा की आर्ट गैलेरी में पहचाना था, CM योगी करेंगे प्राण प्रतिष्ठा

वाराणसी8 महीने पहले

108 साल पहले काशी से चोरी हुई मां अन्नपूर्णा की प्राचीन प्रतिमा यूपी सरकार को हैंडओवर कर दी गई है। दिल्ली से मां अन्नपूर्णा की शोभायात्रा शुरू हो गई है। 18 जिलों में 'पुनर्स्थापना यात्रा' के जरिए मां अन्नपूर्णा 14 नवंबर को काशी पहुंचेगी। मंत्री नीलकंठ तिवारी ने बताया कि देवोत्थान एकादशी यानी 15 नवंबर को नगर भ्रमण के बाद श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के ईशान कोण में रानी भवानी उत्तरी गेट के बगल में मां अन्नपूर्णा की प्राण प्रतिष्ठा होगी। सीएम योगी आदित्यनाथ खुद प्राण प्रतिष्ठा करेंगे।

1913 में अन्नपूर्णा मां की प्रतिमा चोरी हुई थी। 2019 में कनाडा के विनिपेग में भारतीय मूल की आर्टिस्ट दिव्या मेहरा की नजर इस प्रतिमा पर पड़ी थी। इसके बाद भारत सरकार ने इसे वापस लाने की प्रक्रिया शुरू की।

एसीएस होम अवनीश अवस्थी ने बताया कि हमने औपचारिक रूप से इस मूर्ति को ASI से प्राप्त किया है। उत्तर प्रदेश ले जाकर चार दिनों तक प्रदेश में मूर्ति का भ्रमण कराएंगे। 15 तारीख को प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में इसे काशी विश्वनाथ धाम के नए मंदिर में स्थापित किया जाएगा

मां अन्नपूर्णा की पुर्नस्थापना यात्रा गाजियाबाद पहुंची। यहां भाजपा नेता केके शुक्ला और महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा की अगुवाई में लोगों ने दुर्लभ मूर्ति के दर्शन किए। शहर में कई अन्य स्थानों पर लोगों ने यात्रा पर फूल वर्षा की।
मां अन्नपूर्णा की पुर्नस्थापना यात्रा गाजियाबाद पहुंची। यहां भाजपा नेता केके शुक्ला और महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा की अगुवाई में लोगों ने दुर्लभ मूर्ति के दर्शन किए। शहर में कई अन्य स्थानों पर लोगों ने यात्रा पर फूल वर्षा की।

18 जिलों से गुजरेगी 'पुनर्स्थापना यात्रा'

1 साल पहले प्रतिमा के आने की PM मोदी ने दी थी जानकारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 नवंबर 2020 को अपने मन की बात कार्यक्रम में देश के लोगों को मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा कनाडा में मिलने की जानकारी दी थी। उन्होंने उस दिन कहा था कि हर एक भारतीय को यह जानकर गर्व होगा कि मां अन्नपूर्णा की सदियों पुरानी प्रतिमा कनाडा से भारत वापस लाई जा रही है। यह प्रतिमा करीब 108 साल पहले वाराणसी के एक मंदिर से चोरी हुई थी। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने पिछले साल देव दीपावली के एक दिन पहले मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा वापस मिलने की जानकारी दी थी। अब इस वर्ष देव दीपावली के पहले ही मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा की प्राण-प्रतिष्ठा काशी विश्वनाथ धाम में होने जा रही है।

काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य नवंबर महीने के आखिरी तक पूरा होने की संभावना जताई जा रही है। धाम परिसर में ही मां अन्नपूर्णा की प्राचीन प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी।
काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य नवंबर महीने के आखिरी तक पूरा होने की संभावना जताई जा रही है। धाम परिसर में ही मां अन्नपूर्णा की प्राचीन प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी।

एक हाथ में कटोरा और एक हाथ में है चम्मच

बलुआ पत्थर से बनी मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा 18वीं सदी की बताई जाती है। धन-धान्य की देवी और महादेव की नगरी काशी के लोगों को कभी भूखा न सोने देने वाली इस प्रतिमा में मां अन्नपूर्णा एक हाथ में खीर का कटोरा और एक हाथ में चम्मच लिए हुए हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार सदियों पहले काशी में भीषण अकाल पड़ा था। उस दौरान भगवान शिव ने मां अन्नपूर्णा का ध्यान करने के बाद उनसे भिक्षा मांगी थी, तब मां अन्नपूर्णा ने कहा था कि आज के बाद काशी में कोई भूखा नहीं रहेगा।

भारतीय मूल की आर्टिस्ट की 2019 में पड़ी थी नजर

मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा कनाडा के यूनिवर्सिटी ऑफ रेजिना स्थित मैकेंजी आर्ट गैलरी के कलेक्शन का हिस्सा थी। इस आर्ट गैलरी को 1936 में वकील नॉर्मन मैकेंजी की वसीयत के अनुसार बनवाया गया था। 2019 में विनिपेग में रहने वाली भारतीय मूल की आर्टिस्ट दिव्या मेहरा को मैकेंजी आर्ट गैलरी में प्रदर्शनी लगाने के लिए बुलाया गया था। उन्होंने गैलरी में रखी प्राचीन मूर्तियों का अध्ययन करना शुरू किया तो उनकी नजर मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा पर पड़ी। जब उन्होंने रिकॉर्ड खंगाला तो पता लगा कि वर्ष 1913 में वाराणसी के गंगा किनारे स्थित एक मंदिर से ऐसी ही मूर्ति गायब हुई थी जिसे मैकेंजी आर्ट गैलरी ने हासिल किया था।

काशी विश्वनाथ धाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। इसका शिलान्यास उन्होंने मार्च 2019 में किया था।
काशी विश्वनाथ धाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। इसका शिलान्यास उन्होंने मार्च 2019 में किया था।

आर्टिस्ट की बात पर भारत सरकार ने की पहल

दिव्या मेहरा ने मैकेंजी आर्ट गैलरी के सीईओ जॉन हैम्प्टन से अन्नपूर्णा प्रतिमा के बारे में बात की। उनसे कहा कि प्रतिमा को भारत को वापस लौटाना चाहिए। मैकेंजी आर्ट गैलरी के सीईओ समेत अन्य अधिकारियों ने दिव्या मेहरा की बात मान ली। इसका पता ओटावा स्थित इंडियन हाई कमीशन को भी लगा। इसके बाद भारतीय अधिकारियों ने डिपार्टमेंट ऑफ कनेडियन हेरिटेज से संपर्क किया और अन्नपूर्णा देवी की प्रतिमा को भारत भेजने की बात कही। कनाडा सरकार ने सहमति दे दी और तब जाकर मां अन्नपूर्णा की प्राचीन प्रतिमा के भारत आने का रास्ता साफ हुआ।

प्रतिमा कैसे पहुंची कनाडा, बरकरार है राज

मां अन्नपूर्णा की प्राचीन प्रतिमा कनाडा कैसे पहुंची, इसे लेकर आज भी राज बरकरार है। कुछ लोगों को कहना है कि दुर्लभ और ऐतिहासिक सामग्रियों की तस्करी करने वाले प्रतिमा को कनाडा ले जाकर बेच दिए थे। धर्म-कर्म के क्षेत्र में रुचि रखने वाले काशी के बुजुर्ग विद्वानों को भी मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा के गायब होने की ठोस जानकारी नहीं है।

उधर, प्रदेश के धर्मार्थ कार्य मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने बुधवार को कहा कि जब स्वतंत्रता आंदोलन चरम पर था तब यह प्रतिमा कनाडा पहुंच गई थी। अब यह प्रतिमा भारत वापस लाई गई है। 15 नवंबर को प्रतिमा की पुनः प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी।