लूट से पहले अचानक पिस्टल से चली गोली:वाराणसी में युवक की गर्दन में गोली लगने से मौत, 2 दोस्त 2 पिस्टल के साथ हिरासत में

वाराणसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंदन को गोली लगने के बाद बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में मौजूद उसके करीबी और पुलिस अफसर। - Dainik Bhaskar
चंदन को गोली लगने के बाद बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में मौजूद उसके करीबी और पुलिस अफसर।

वाराणसी में लूट से पहले पिस्टल को आजमाना एक युवक की जिंदगी के लिए भारी पड़ गया। पिस्टल से निकली गोली सीधे उसके गर्दन में लगी, जो आरपार निकल गई। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इस प्रकरण में पुलिस ने मृतक के दो दोस्तों को दो पिस्टल के साथ पकड़ा है। पूछताछ की जा रही है। अभी दो आरोपी फरार हैं, उनकी तलाश की जा रही है। आज पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा। बताया जा रहा है कि जिस वक्त युवक पिस्टल की मारक क्षमता को चेक कर रहा था, उस वक्त वह नशे में था। पुलिस के अनुसार, मृतक और हिरासत में लिए गए लोग आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। इनका रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है।

बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में चंदन श्रीवास्तव के शव को देखते पुलिस अफसर।
बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में चंदन श्रीवास्तव के शव को देखते पुलिस अफसर।

पार्क में बैठ कर रच रहे थे साजिश

पिशाचमोचन कॉलोनी निवासी चंदन श्रीवास्तव उर्फ अमन (28) ने गुरुवार की रात अपने दोस्त देवेश, सचिन, जीतू और सतीश पाल के साथ खूब शराब पी। पांचों की योजना था कि लूट की किसी बड़ी वारदात को अंजाम दिया जाए। इसके बाद पांचों देर रात कामायनी नगर कॉलोनी पार्क में अवैध पिस्टल को चेक कर रहे थे। एक पिस्टल चेक करने के दौरान ही उससे निकली गोली चंदन की गर्दन को आर-पार कर गई।

आनन-फानन चंदन को बीएचयू ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वारदात के संबंध में सिगरा थाने में चंदन के पिता गोपाल श्रीवास्तव की तहरीर के आधार पर देवेश, सचिन, जीतू और सतीश पाल के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। गोपाल के अनुसार देवेश, सचिन, जीतू और सतीश ने उनके बेटे के साथ कहासुनी कर मारपीट की। मारपीट के दौरान ही सचिन ने गोली मार कर उनके बेटे की हत्या कर दी।

चंदन की मौत के बाद बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में बातचीत करते पुलिस अफसर।
चंदन की मौत के बाद बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में बातचीत करते पुलिस अफसर।

चंदन पहले जा चुका है जेल

चंदन की हत्या के बाद इंस्पेक्टर सिगरा अनूप कुमार शुक्ला ने दरोगा प्रकाश सिंह को साथ लेकर ताबड़तोड़ दबिश दी और 2 आरोपियों को 2 पिस्टल के साथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में सामने आया कि आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के आरोप में चंदन और उसके दोस्त पहले भी जेल जा चुके हैं। पूछताछ में यह भी पता लगा कि चंदन अपने परिजनों को बताता था कि वह शहर से बाहर रह कर काम करता है, जबकि वह यहीं अपने दोस्तों के साथ ही रहता था।

उधर, वारदात के संबंध में सिगरा इंस्पेक्टर अनूप कुमार शुक्ला ने बताया कि चंदन और उसके दोस्त आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। सभी के खिलाफ पहले भी पुलिस की ओर से कानूनी कार्रवाई की गई थी। चंदन के पिता की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर प्रकरण में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

चंदन को गोली लगने की जानकारी पाकर गुरुवार की देर रात बीएचयू ट्रॉमा सेंटर पहुंचे पुलिस अफसर और उसके परिजन।
चंदन को गोली लगने की जानकारी पाकर गुरुवार की देर रात बीएचयू ट्रॉमा सेंटर पहुंचे पुलिस अफसर और उसके परिजन।
खबरें और भी हैं...