पिंडरा के चोलापुर में किसान गोष्ठी आयोजित:बीडीओ ने कहा-खेती को जिंदा रखना है तो नैनो यूरिया को अपनाना होगा

पिंडरा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी के पिंडरा अंतर्गत चोलापुर ब्लाक सभागार में किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में बीडीओ अशोक कुमार चौरसिया पहुंचे। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि पुराने हथियारों से नये जमाने की लड़ाई नही लड़ी जा सकती। आज हमें खेती को जिंदा रखना है तो नैनो यूरिया को अपनाना ही होगा। पुरानी लीक पर चलकर हम कृषि और किसानों का नुकसान कर रहे हैं।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में अपर जिला सहकारी अधिकारी सुनील पाण्डेय ने कहा कि नैनो यूरिया तरल रूप में दुनिया का पहला उर्वरक है जिसे भारत सरकार के उर्वरक नियंत्रण आदेश द्वारा अधिसूचित किया गया है। इसकी सफलता और संतुष्टि की दर आश्चर्यजनक है।

इफको के अक्षय कुमार पाण्डेय द्वारा नैनो यूरिया के प्रयोग के तरीके और इसके खेती में फायदों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होने कहा कि इफको नैनो यूरिया नाइट्रोजन कण का आकार 20-50 नैनो मी. तक होता है।इफको नैनो यूरिया नैनो तकनीक आधारित क्रांतिकारी कृषि आदान है जो पौधों को नाइट्रोजन प्रदान करता है।

एडीओ सहकारिता संगीता वर्मा ने अपने संबोधन मे कहा कि विकास खंड चोलापुर के किसानो को आसानी से नैनो यूरिया उपलब्ध हो सके। इसके लिए सभी सहकारी समितियों पर नैनो यूरिया को आधा लीटर की बोतल में उपलब्ध कराया गया है। किसान गोष्ठी में कृषि वैज्ञानिक इफको अनिल सिंह, एडीओ कृषि शिवदास, एडीओ आईएसबी रविप्रकाश सिंह समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...