• Hindi News
  • Madhurima
  • Before Marriage, It Will Be Very Important For The Bride And Groom To Manage Them.

वित्त विमर्श:विवाह से पहले वर और वधू के लिए बेहद ज़रूरी होगा इनका प्रबंधन

आर के गुप्ता16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आजकल सभी लोग क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करते हैं और किसी भी वजह से लोन भी ले लेते हैं। तो दूल्हा हो या दुल्हन, अपने विवाह पूर्व के लोन चुका दें और क्रेडिट कार्ड में भी कोई बकाया राशि चुकाने यानी आउटस्टैंडिंग ना रखें। जीवनसाथी में कर्ज़ का बोझ डालते हुए नया जीवन शुरू करना बिलकुल ठीक नहीं कहा जाएगा। यदि किसी कारण इसे जारी रखना भी चाहें तो चर्चा कर पहले से तय कर लें।

वित्त प्रबंधन और निवेश संबंधी फैसलों में वर और वधू आपस में कुछ भी ना छुपाएं।

विवाह पंजीकरण

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने 2006 में, कानून की नज़र में सभी विवाहों को पंजीकृत करना अनिवार्य किया है इसलिए इसे ज़रूर कराएं। यह विवाह का कानूनी प्रमाण है। अगर शादी के बाद नाम या सरनेम (उपनाम) नहीं बदलना चाहते तो शादी से संबंधित सभी कानूनी अधिकार और लाभ इसकी मदद से मिल सकते हैं। शादी के बाद बैंक में संयुक्त खाता खुलवाने, जीवन बीमा पॉलिसी लेने, स्पाउस वीज़ा हासिल करने, जॉइंट प्रॉपर्टी लेने जैसे तमाम कामों के लिए शादी का प्रमाण-पत्र ज़रूरी होता है।

शादी के बाद के किसी छल या धोखे, गुज़ारा भत्ता लेने या अलगाव की सूरत में भी यह प्रमाण पत्र आवश्यक होता है।

प्रमाण और तस्वीरें

शादी का रजिस्ट्रेशन करवाकर दस्तावेज़ सुरक्षित कर लें। वर-वधु दोनों पक्ष के निमंत्रण पत्र की कॉपी, विवाह कराने वाले पंडित या संस्था का प्रमाण पत्र आवेदन के प्रारूप में अवश्य रखें। साथ ही रखें विवाह के समय की 5 फोटो जिसमें जयमाला, फेरे, सिंदूर, मंगल सूत्र पहनाते व दोनों के माता पिता के साथ वर-वधू की फोटो हों (शादी के समय हिंदू रीति में)। धर्म के अनुसार होने वाली रस्मों की तस्वीरें रखें, साथ ही वर वधु दोनों की ओर से माता और पिता का सहमति पत्र और शादी में सम्मिलित होने वाले तीन व्यक्तियों का साक्ष्य।

उपनाम में बदलाव

वधु के लिए ज़रूरी होगा कि वे अपने शादी पूर्व के नाम का एक बैंक अकाउंट कुछ समय तक जारी रखें। कई बार शादी के उपहार में मिले चेक्स पुराने नाम से ही होते हैं, उनको जमा करने के लिए यह अकाउंट ज़रूरी होगा। शादी के बाद यदि वधु नाम बदलना या वर का उपनाम अपनाना चाहे तो उसे इस बारे में एक नोटरी से प्रमाणित एफिडेविट, एक हिंदी और एक इंग्लिश समाचार पत्र में विज्ञापन, केंद्रीय सरकारी गज़ेट के पार्ट 4 में सूचना की प्रक्रिया पूरी करनी होगी। साथ ही वधू को आधार कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, बैंक और अन्य स्थानों पर हुए बदलाव के साथ के वाय सी अपडेट कर लें।

ये भी ज़रूरी हैं

  • दूल्हे के लिए भी ज़रूरी है कि वे अपने बैंक खातों या निवेश या अन्य वित्तीय व सम्पत्ति संबंधी दस्तावेज़ों में नामांकन में पत्नी का नाम शामिल करवा लें।
  • पति-पत्नी अपने व अपने अभिभावकों के लिए स्वास्थ्य बीमा ज़रूर लें (अगर अब तक ना लिया हो तो)। पत्नी के पास पहले से हो, तो नए उपनाम को अपडेट करा लें। पति नामांकन में पत्नी का नाम जोड़ लें।
  • साथ ही ज़रूरी है कि शादी के बाद पति पत्नी एक इकाई के रूप में अपने भविष्य की योजना बनाएं।
खबरें और भी हैं...