पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Madhurima
  • In This Crisis, All The Houses Are Closed, In This Way It Is The Most Difficult Task To Handle The Children, To Keep Them Busy, Teach Them Something That Works For Them And They Also Enjoy Learning.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई पहल:इस संकट के समय सभी घरों में बंद हैं ऐेसे में बच्चों को संभालना सबसे मुश्किल काम है, उन्हें व्यस्त रखने के लिए कुछ ऐसा सिखाएं जो उनके काम आए और सीखने में उन्हें मज़ा भी आए

कोपल जैन, काउंसलर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस समय बच्चे घर पर खाली हैं, न बाहर जा सकते हैं न दिनभर टी.वी देख सकते हैं। ऐसे में उन्हें सीखने के तरीक़ों के प्रति नया नज़रिया दिया जा सकता है।
  • कुछ यूं वे अपनी दुनिया को देखें कि सीखने की ललक बढ़े, सीख का कोष बढ़े और वे नए उत्साह से भर जाएं।

देश में कई जगह लाॅकडाउन है और जहां नहीं है वहां भी अधिकांश लोग घर मंें ही बंद हैं। स्कूल, एक्टिविटी क्लासेस सब कुछ बंद हैं। ऑनलाइन पढ़ाई से बच्चे उकताने लगे हैं। वह न कुछ नया सीख पा रहे हैं न कुछ नया कर पा रहे हैं। ऐसे में क्या करें कि बच्चों में फिर नया उत्साह-उमंग आ जाए और उनका विकास चाहे वो शरीरिक, मानसिक या व्यवहारिक हो वो भी न रुके। कुछ उपायों से नई और काम की बातें सिखाने में मदद मिलेगी। इन उपायों को अलग-अलग आयु वर्ग के बच्चों के अनुसार बांटकर समझाना आसान होगा।

3-6 साल के बच्चे...

इस आयु में बच्चे अति उत्साही होते हैं। इनका दिमाग़ इस समय हर नई गतिविधि में पूरी तरह रम जाता है। इन्हें खेल-खेल में काउंटिग सिखा सकते हैं, जैसे सांप-सीढ़ी या लूडो के ज़रिए चाल चलते समय 1,2,3 बोलकर चलें। सांप-सीढ़ी पढ़कर चढ़वाएं तो बच्चा नंबर और काउंटिंग सीख जाएगा। इसी तरह सांप के काटने पर नीचे आते हैं तो उल्टी गिनती सिखाएं। जोड़ना-घटाना सिखाने के लिए इनके खिलौनों का इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसे चार कार हैं तो उन्हें गिनना फिर दो कार ख़ुद ले लेना और दो बच्चे को दे देना इससे वे घटाना सीखेंगे। इसी तरह से जोड़ना सिखा सकते हैं।

7 से 10 साल के बच्चे...

इस उम्र के बच्चों की ऊर्जा तो देखते ही बनती है। ये थकते नहीं हैं। इस उम्र के बच्चों के दिमाग़ को तेज़ बनाने के लिए मैमोरी गेम्स खेलें। जैसे एक पेपर पर छोटी संख्या से लेकर बड़ी संख्या लिख लें, जैसे 87554 अब संख्या बढ़ाते जाएं जैसे 547854666। अब बच्चे को भी एक कॉपी दें और बड़ा व्यक्ति जल्दी से एक बार छोटी संख्या बोले और बच्चे को सुनकर उन्हें उनके पेज पर लिखने को बोलें। अंक बढ़ाते जाएं इससे उनकी एकाग्रता बढ़ेगी और दिमाग़ी कसरत होगी। इसके अलावा उनके साथ शब्द अंताक्षरी खेल सकते हैं। इससे उनका मनोरंजन भी होगा और वे नए शब्द भी सीखेंगे।

11 से 14 वर्ष के बच्चे...

इस उम्र के बच्चों को कुछ और नया सिखा सकते हैं, जैसे गणित के जटिल हिस्से जो बच्चों को मुश्किल लगते हैं। वे अभिभावक घर में मौजूद सामान के माध्यम से सिखा सकते हैं। जैसे दरवाज़ा आधा खोलने पर बनने वाला शून्य से लेकर 90 डिग्री का कोण बता सकते हैं। जब वे इन चीज़ों को सामान्य जीवन में देखेंगे तो इनसे जल्दी सीखेंगे और उन्हें मज़ा भी आएगा। इसके साथ ही दरवाज़े की लंबाई को इंच टेप या स्केल की मदद से इंच और फुट में नापना भी सिखा सकते हैं साथ ही उसका क्षेत्रफल निकालना भी सिखा सकते हैं। शब्दकोष देखना सिखाने के लिए खेल खेलें। इसमें एक शब्द बोलें और उसे डिक्शनरी में ढूंढने को कहें। टाइमर लगाकर रखें, समय सीमा में शब्द खोजने वाले को इनाम दें। डिक्शनरी देखना सिखाने के लिए बच्चों को बताएं ये कैसे वर्णमाला के क्रम में देखी जाती है। यही क्रम किसी शब्द की वर्तनी (स्पेलिंग) में भी होगा। पहले आसान शब्दों को खोजने के लिए कहें। फिर कुछ लम्बे शब्द दें। बच्चों के दोस्तों या भाई-बहनों में ऑनलाइन स्पर्धा भी करवा सकते हैं कि कौन कितनी जल्दी किसी शब्द के मायने खोजता है।

काम-काम में सीख...

हर उम्र के बच्चों की अलग-अलग क्षमताएं होती हैं, पर कुछ व्यवहारिक ज्ञान भी उनको दिया जाना ज़रूरी है, ख़ासतौर पर घर से जुड़े काम... 6 साल का बच्चा अपने खिलौने-किताबंे जगह पर रखे, सफ़ाई का ध्यान दें, 8-9 साल के बच्चे खाने को परोसवाने में मदद करें, 12-13 साल के बच्चे खाना बनाने जैसे सब्ज़ी काटने या सब्ज़ी धोने में हाथ बंटा सकते हैं। ये कुछ उदाहरण मात्र हैं पर ध्यान रखने की बात ये कि ये सब काम निर्देश देकर या डांट कर नहीं कराना चाहिए बल्कि उनकी आदत में धीरे-धीरे डालना चाहिए। जैसे आप इस तरह से कह सकते है कि चलो आज खिलौने जमाने की प्रतियोगिता रखते हैं देखते हैं कौन जीतता हैै। इसी तरह किसी भी काम के लिए प्रतियोगिता रख सकते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपका अधिकतर समय परिवार तथा फाइनेंस से जुड़े महत्वपूर्ण कार्यों में व्यतीत होगा। और सकारात्मक परिणाम भी सामने आएंगे। किसी भी परेशानी में नजदीकी संबंधी का सहयोग आपके लिए वरदान साबित होगा।। न...

    और पढ़ें