• Hindi News
  • Madhurima
  • It Is Important To Take Care Of Bone Health In Winters; Know How You Can Do This Sitting At Home

सर्दियों में हडि्डयों के स्वास्थ्य का ख़्याल रखना ज़रूरी होता है; कैसे घर बैठे ऐसा कर सकते हैं, जानिए

2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सर्द मौसम आते ही बीमारियों से बचाव का दौर भी शुरू होता है। ख़ासकर बुज़ुर्ग इस मौसम में इन समस्याआंे से अधिक जूझते नज़र आते हैं।
  • सर्दियों में हडि्डयों में दर्द की समस्या क्यों बढ़ जाती है और इससे बचाव कैसे सुनिश्चित किया जा सकता है, जानिए।

सर्दियों के मौसम में हडि्डयों में व जोड़ों में दर्द की समस्या का दौर भी शुरू हो जाता है। सर्द मौसम में बहुत से लोग सक्रिय जीवनशैली से दूरी बना लेते हैं जिसके कारण जोड़ों की समस्या में इज़ाफ़ा होता है। सर्दियों में ख़ासतौर पर हडि्डयों की सेहत को ध्यान में रखते हुए मूल रूप से पोषण और व्यायाम को तरजीह देनी चाहिए।
कैल्शियम-विटामिन की उचित मात्रा लें
हडि्डयों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए कैल्शियम की उचित मात्रा का सेवन करें। इसके साथ ही भोजन में विटामिन-सी की भी उचित मात्रा सुनिश्चित करें और विटामिन-डी के लिए धूप में नियमित 20 मिनट कोई शारीरिक गतिविधि या व्यायाम आदि करें, क्योंकि कैल्शियम को अवशोषित करने के लिए विटामिन-सी और डी की अहम भूमिका होती है। विटामिन-डी के उचित सेवन के लिए जांच करवाकर डॉक्टर की सलाह से सप्लीमेंट लें। जंक फूड, अत्यधिक तला-भुना आदि खाने के बजाय संतुलित आहार लें।
महिलाएं विशेष ध्यान दें
महिलाओं को मेनोपॉज व अन्य समस्याओं के कारण हडि्डयों व जोड़ों के दर्द का अधिक सामना करना पड़ सकता है। मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन हॉर्मोन कम होने के कारण कैल्शियम की मात्रा प्रभावित होती है। कई लोगों में जोड़ों के दर्द की समस्या रहती है और सर्द मौसम में यही समस्या अतिरिक्त रूप से बढ़ सकती है। इसलिए महिलाएं सर्द मौसम में ख़ुद पर अधिक ध्यान दें व भोजन में सही पोषण की मात्रा सुनिश्चित करें।
नियमित व्यायाम करें
शारीरिक सक्रियता बनाए रखें। अक्सर सर्दियों में सुस्त मिज़ाजी के कारण बहुत से लोग व्यायाम आदि से दूरी बना लेते हैं जो कि उचित नहीं है। अपनी शारीरिक क्षमता और विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार दिन में कम से कम 20 मिनट व्यायाम अवश्य करें।
एंटीऑक्सीडेंट्स युक्त आहार लें
ग्रीन टी, सेब, बेरीज़, अनार, संतरा और पत्ता गोभी, ब्रॉकली, मशरूम आदि में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके अलावा हल्दी और अदरक भी इसके अच्छे स्रोत हैं। भोजन और पेय पदार्थों में इन मसालों का उपयोग सेहत के लिए बहुत अधिक फ़ायदेमंद है।
जोड़ों को गर्म रखने का प्रयास करें
ठंड से शरीर का उचित बचाव सुनिश्चित करें। ख़ासकर बुज़ुर्ग दस्ताने और मोज़े ज़रूर पहनकर रहें, क्योंकि शरीर के छोटे जोड़ों में जकड़न जल्दी महसूस होने का जोखिम होता है।

हडि्डयों के रोगी सर्दियों में क्या करें, क्या ना करें
— शक्कर, फ्रुक्टोज़ युक्त पदार्थ जैसे कोल्ड ड्रिंक, मिठाई, चॉकलेट आदि के सेवन से बचें।
— ग्लूटन युक्त आहार जैसे गेहूं, राई और जौ
के सेवन से बचिए।
— अपने आहार में बीन्स, फलियां जैसे सोया, लाल बीन्स और राजमा आदि को शामिल करें। इनमें मैग्निशियम, फॉलिक एसिड, आयरन, ज़िंक, पोटेशियम और प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

सर्द हवा से दूरी
सीधे ठंडी हवा के संपर्क में आने से बचें। यह बीमारी के साथ-साथ हड्डियों के लिए भी घातक हो सकती है और दर्द में इज़ाफ़ा कर सकती है। इसके अलावा यदि पहले से हडि्डयों से सम्बंधित किसी रोग से जूझ रहे हैं तो अपनी दवाएं नियमित लें व डॉक्टर की सलाह के अनुसार जीवनशैली तय करें। बच्चों व बुज़ुर्गों का इस संदर्भ में अधिक ख़्याल रखें।
ओमेगा-3, अच्छा साथी
ओमेगा-3 फैटी एसिड के सेवन से जोड़ों की सूजन कम होती है। यह एवोकेडो, अलसी के बीज, चिया सीड्स, अखरोट, मछली में पाया जाता है।

खबरें और भी हैं...