• Hindi News
  • Madhurima
  • No Matter How Much Budget Is Made In Marriage, The Expenses Do Not End, But With The Help Of Some Tricks, You Can Control The Expenses.

शादी के ख़र्चे:शादी-ब्याह में कितना भी बजट बना लिया जाए ख़र्चे ख़त्म ही नहीं होते, लेकिन कुछ तरक़ीबों की मदद से ख़र्चों पर लगाम पा सकते हैं

सुरभि जोशी16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शादी-ब्याह में जितना चाहे बजट बना लीजिए, जाने किन किनारों से ये सीवनें खुल जाती हैं और ख़र्चे निकल पड़ते हैं। लेकिन ऐसा कोई काम नहीं, जो ठान लेने पर ना हो सके।
  • इसलिए चंद सुझाव प्रस्तुत हैं, जिन्हें आप अपनी सुविधा से चुनकर ख़र्चों पर कहीं तो कुछ लगाम लगा सकते हैं।

वेबसाइट बनवा लें
शादी के कार्ड या सोशल मीडिया के ज़रिए निमंत्रण ना देते हुए एक वेबसाइट बना लें, जिस पर दूल्हा-दुल्हन के परिवारों की जानकारी, हर अवसर के स्थान व तिथि और नई-पुरानी, दिलचस्प तस्वीरें शामिल करवा लें।
दोस्त कब काम आएगा
अगर आपके किसी मित्र में फोटोग्राफी का शौक है, तो शादी की तस्वीरें खींचने के लिए उसकी मदद ले सकते हैं। अगर फोटोग्राफर या वीडियोग्राफर चुनना ही है, तो दूल्हा-दुल्हन दोनों एक ही व्यक्ति को यह काम सौंपें (अगर एक ही शहर में रहते हों, तो।)
एक्सेसरीज़ का ख़्याल
भारी-भरकम ज़ेवर लेने की बजाय ‘लेयरिंग’ की तरक़ीब को अपनाएं। छोटे सेट्स ले लें। इनको शादी की ड्रेस पर एक-साथ धारण करने से भारी जूलरी वाला लुक आएगा और बाद में इनको अलग-अलग इस्तेमाल कर लें।
लहंगा ना पड़े महंगा
ट्रेंडी लहंगे लेना, हर फंक्शन के लिए अलग ड्रेस लेने का हर लड़की का मन होता है। इसमें ही लाखों ख़र्च हो जाते हैं और पता भी नहीं चलता। इसलिए थोड़ी समझदारी दिखाते हुए इनका चयन करें। लहंगा किराए से ना लेकर ख़रीद लेना बेहतर है क्योंकि ये सुहाग के हर पर्व पर पहनने में आता है। लहंगे को मिक्स-मैच कर लें। सदाबहार सिल्क चुन लें या लहंगे से मैचिंग साड़ी ले लेकर, दोनों की ड्रेपिंग से अपने शादी के जोड़े को भारी लुक दें। सबसे अच्छा तो है कि मां-दादी-नानी की कोई क्लासिक साड़ी को नए ढंग के ब्लाउज़ के साथ शादी के अवसरों पर पहनें। क्लासिक की बात ही अलग होती है।
डेकोरेशन पर ध्यान दें
सजावट तस्वीरों के लिए ज़रूरी होती हैं। मेहमान इस पर एकाध बार ही ध्यान देकर फिर कार्यक्रम में व्यस्त हो जाते हैं, तो फिर इस पर लाखों ख़र्च करने का क्या औचित्य। उन चीज़ों पर फोकस करें जो कम क़ीमत में सजीला लुक दें। जैसे एक्ज़ॉटिक फूलों की सजावट ना रखें क्योंकि इनकी क़ीमत बहुत अधिक होती है। इसके बजाय रंगीन दुपट्‌टे या पतंग, रंगीन कुशन, गेंदे या मौसमी स्थानीय फूलों से सजावट कराएं।
तोहफ़ा वो जो काम आए
मेहमानों को बिदा करते समय शादी की यादगार के तौर पर चांदी के सिक्के जैसे महंगे या फोटोफ्रेम जैसे कम उपयोगी तोहफ़े देने के बजाय ऐसी वस्तु दें, जो उपयोगी हो। मैलामाइन का छोटा डिनर सेट, तांबे का गिलासों का सेट, पूजा के आसन, विंड चाइम्स, सजीली वंदन वार जैसी वस्तुएं काम की भी होती हैं और जेब पर भारी भी नहीं पड़ेंगी।

खबरें और भी हैं...