पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Madhurima
  • Offer Naivedya After Offering Laddu Or Modak At The Time Of Aarti, Know The Recipe Of Traditional Dishes Here

गणेशजी का नैवेद्य:आरती के समय लड्‌डू या मोदक का भोग लगाने के बाद अर्पित करें नैवेद्य, पारंपरिक व्यंजनों की रेसिपी यहां जानिए

श्वेता लाडकानी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आरती के समय लड्‌डू या मोदक का भोग लगाने के बाद नैवेद्य भी अर्पित किया जाता है।
  • सुबह-शाम के लिए कुछ ऐसा सात्विक भोजन बनता है, जिसका पहले विनायक जी को भोग लगाया जा सके और फिर उसे प्रसाद के रूप में सब ग्रहण कर सकें।
  • चंद पारंपरिक व्यंजन विधियों का उल्लेख यहां है।

बटाटा सब्ज़ी और कद्दू की पूरी

क्या चाहिए

आलू- 4-5 उबले हुए, टमाटर- 3-4, हरी मिर्च- 2 बारीक कटी हुई, हरा धनिया- थोड़ा-सा, नमक- स्वादानुसार, हल्दी – 1/3 छोटा चम्मच, लाल मिर्च पाउडर- छोटा चम्मच, जीरा और राई- - छोटा चम्मच, हींग- चुटकी भर, देसी घी- 2 बड़े चम्मच।

पूरी बनाने के लिए- गेहूं का आटा- 1 कटोरी, कद्दू- 100 ग्राम, तेल- तलने के लिए।

ऐसे बनाएं

आलू को छीलकर काट लें। टमाटर की प्यूरी बना लें। अब पैन या कुकर में घी गर्म करें। उसमें राई और जीरा तड़काएं। हींग, हरी मिर्च, टमाटर की प्यूरी डालकर मिलाएं और पांच मिनट तक भूनें। नमक, हल्दी, लाल मिर्च पाउडर मिलाकर आलू डालें और पांच मिनट तक चलाते हुए भूनें। इसके बाद आधा कप पानी डालकर ढक्कन लगाएं और दो सीटी आने तक पकाएं। अगर पैन में बना रहे हैं तो दस मिनट तक धीमी आंच पर पकाएं। ऊपर से कटा हुआ हरा धनिया डालें। पूरी बनाने के लिए कद्दू को काटकर पानी में एक उबाल आने तक पकाएं। फिर इन टुकड़ों को निकालें और इसमें थोड़ा सा सादा पानी डालकर प्यूरी बना लें। इसी प्यूरी में आटा डालकर गूंध लें। आटा गूंधते वक़्त थोड़ा सा नमक मिला लें। आटा थोड़ा कड़क गूंधेंं। आटे की लोइयां बनाएं और पूरियां बेल लें। पूरियों को गर्म तेल में तल लें। गर्मा-गर्म पूरियों का बटाटा की सब्ज़ी के साथ भोग लगाएं। साथ में खीरे का रायता भी रख सकते हैं।

ऋषि पंचमी सब्ज़ी

क्या चाहिए

तुरई- 2, कद्दू का टुकड़ा- 1, खीरा- 1, भिंडी -7-8, मक्का के दाने- कटोरी, हरी मिर्च- 1, नारियल पाउडर – 2-3 छोटे चम्मच, नमक- स्वादानुसार, हरा धनिया- छोटा चम्मच, जीरा- छोटा चम्मच, देसी घी- 2-3 बड़े चम्मच, लाल मिर्च पाउडर- चुटकी भर, काली मिर्च- थोड़ी सी।

ऐसे बनाएं

सब्ज़ियों को धोकर काट लें। थोड़े से पानी में सब्ज़ियां उबाल लें। दस मिनट तक उबालने के बाद इसमें नारियल पाउडर डालें। मक्के के दाने और नमक डालकर पकाएं। सब्ज़ी गाढ़ी हो जाए, तो दस मिनट तक पकाने के बाद आंच बंद कर दें। अब पैन में घी गर्म करें। इसमें जीरा तड़काएं। लाल मिर्च और काली मिर्च डालकर तड़का तैयार करें। तड़के को सब्ज़ी में मिलाएं।

मूंग दाल खिचड़ी

क्या चाहिए

चावल- 1 कटोरी, मूंग दाल- कटोरी, देसी घी- 2 बड़े चम्मच, नमक- स्वादानुसार, गाजर - 2, शिमला मिर्च- 1, मटर के दाने – थोड़े से, टमाटर – 1, हरा धनिया- थोड़ा सा, जीरा- छोटा चम्मच, हल्दी- चुटकी भर।

ऐसे बनाएं

दाल और चावल को एक घंटे तक पानी में भिगोकर रख दें। दाल और चावल का पानी निथार लें। अब प्रेशर कुकर में दाल, चावल, थोड़ा सा पानी, नमक और हल्दी डालें। दो-तीन सीटी आने तक पकाएं। अब सभी सब्ज़ियां काट लें। एक पैन में घी गर्म करके जीरा तड़काएं। इसमें सब्ज़ियां डालकर चलाते हुए अच्छी तरह से भूनें। जब सब्ज़ियां पक जाएं, तो खिचड़ी इसमें डालकर मिलाएं। कटा हुआ हरा धनिया डालें। ऊपर से और देसी घी डालें।

वरण भात

क्या चाहिए

तुअर दाल- 1 कटोरी, चावल-2 कटोरी, जीरा- 1/2 छोटा चम्मच, नमक, हल्दी- चुटकी भर, देसी घी- 2 बड़े चम्मच, नारियल पाउडर- थोड़ा सा, शक्कर- थोड़ी सी, हरी मिर्च- 1, हरा धनिया- थोड़ा सा कटा हुआ।

ऐसे बनाएं

दाल और चावल को अलग-अलग एक घंटे के लिए पानी में भिगोकर रखें। इनका पानी निथार लें। चावल में हल्का सा नमक और पानी डालकर भगोने में पकाएं। अब दाल में थोड़ा पानी डालकर उबालें। उबाल आए, तो उसमें थोड़ा और पानी मिलाएं। स्वादानुसार नमक, हल्दी, देसी घी, नारियल पाउडर और शक्कर मिलाएं। दाल और चावल को कुकर में ना पकाकर भगोने में पकाना है। दाल को दस मिनट तक और उबालें। जब दाल गाढ़ी हो जाए, तो आंच बंद कर दें। एक प्लेट में चावल रखें। ऊपर से दाल डालें और फिर इसके ऊपर देसी घी डालें। जब इसे भोजन में परोसें, तो राई का छौंक लगाएं और ऊपर से हरा धनिया डालें।

खबरें और भी हैं...