हवा स्वच्छ रहे:घर की हवा को शुद्ध करने के लिए लगाएं ये इंडोर प्लांट्स

आर. एस. यादव2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वच्छ हवा सेहत की ज़रूरत है और कोरोना काल में जब बाहर की हवा पर ख़तरा मंडराया हुआ है, ऐसे में घर के भीतर की हवा की शुद्धता के लिए अतिरिक्त प्रयास ज़रूरी हो गए हैं, वो भी प्राकृतिक ढंग से।
  • घर के भीतर ऐसे पौधों को स्थान दें, जो हवा को शुद्ध करे।

ऐरीका पाम

यह पौधा हवा को शुद्ध करता है और कई बीमारियों से बचाता है। कार्बन मोनोऑक्साइड, ज़ाइलीन जैसी विषैली गैसों को हटाकर हवा को शुद्ध करता है। इसे गमले में लगाकर लिविंग रूम में भी रख सकते हैं। इसकी पत्तियों में धूल जल्दी जमती है इसलिए इसे साफ़ करते रहें। इस पौधे को 4-5 दिन में एक बार धूप में रख सकते हैं। वहीं पानी तब ही दें, जब मिट्‌टी सूखी नज़र आए। यह पालतू के लिए सुरक्षित है, फिर भी उनकी पहुंच से दूर रखें।

बोस्टन फर्न​​​​​​​

​​​​​​​यह पौधा घर की हवा में धुएं, पेंट, एडहेसिव, कॉस्मेटिक आदि से निकलने वाले फार्मेल्डिहाइड को सोखता है। इस पौधे को सीधा धूप में न रखते हुए कमरे में ऐसे स्थान पर रख सकते हैं जहां रोशनी हो। इस पौधे को ज़्यादा पानी नहीं दें, बस इतना ध्यान रखें कि इसकी जड़ें नम रहें। इसे घर के बाहर या बालकनी में छांव में टांग सकते हैं क्योंकि यह पौधा फैला हुआ होता है और घास जैसा दिखता है इसलिए टांगने पर ये काफ़ी आकर्षक लगता है।

सान्सेवीरिया​​​​​​​​​​​​​​

​​​​​​​इसे नाग या स्नेक प्लांट भी कहते हैं। यह पौधा रात को कार्बन डाइऑक्साइड हटाता है और ऑक्सीजन में बदलता है। इसे लिविंग रूम या उस कमरे में रख सकते हैं, जहां सभी ज़्यादा वक़्त तक बैठते हों। बालकनी में छांव में भी लगाएं ताकि अंदर आने वाली हवा भी शुद्ध हो जाए। इस पौधे की देखभाल करना आसान है। कम पानी में और कम सूर्य की रोशनी में यह हरा-भरा रहता है। बच्चों और पालतू के लिए यह पौधा सुरक्षित नहीं है इसलिए पौधे को इतनी ऊंचाई पर रखें कि वे इस तक पहुंच न सकें।

रबर प्लांट

अगर बंद कमरे जैसे पढ़ाई या वर्क स्टेशन की हवा शुद्ध रखनी है तो रबर प्लांट लगाएं। यह पौधा थोड़ी-सी धूप में भी जीवित रह सकता है। पौधे में केवल इतना पानी डालें कि मिट्‌टी में नमी रहे। अधिक पानी से यह सड़ सकता है। इस पौधे की ख़ास बात यह है कि फॉर्मेल्डिहाइड जैसे रसायन जो कि अमूमन पेंट, ग्रीस, कपड़े धोने के साबुन में पाया जाता है उसे हटाता है। इस पौधे को भी बच्चों और पालतू की पहुंच से दूर रखें।

खबरें और भी हैं...