अहा! ज़िंदगी:अहा! ज़िंदगी पत्रिका के नवम्बर अंक की चुनिंदा स्टोरीज़ पढ़ें सिर्फ़ एक क्लिक पर

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक ब्राह्मण परिवार के घर-संसार के आत्मीय ब्योरे और सम्बंधों के अनेक आयामों की कहानी...

बिटिया की शादी के प्रश्न और ग्रामीण जीवन का रेखाचित्र खींचती कहानी 'पंडित जी की बिटिया'

जितने जाने-अनजाने चेहरे रेल यात्राओं में मिलते हैं, शायद ही किसी और यात्रा साधन में किसी से टकराते हों...

एक रेल यात्रा और यात्रियों के बीच सीट की जंग का मज़ेदार क़िस्सा

रोग, आशंका और अनिश्चितता के विश्वव्यापी माहौल में मन की सेहत के बारे में यह बुनियादी जानकारी...

शरीर के साथ-साथ मन के स्वास्थ्य का ध्यान रखना भी आवश्यक है, हर मानसिक रोग पागलपन नहीं होता

क्षीर शब्द संस्कृत में दूध का पर्याय है और खीर नामक सात्विक पौष्टिक व्यंजन का नाम इसी आधार पर हुआ है...

हज़ारों सालों से भारत में खाई जा रही है खीर, हर प्रांत में अपनी अलग पहचान रखती है यह खीर

किसान वैज्ञानिक भगवती देवी की कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी

कभी स्कूल नहीं गईं भगवती देवी, आज खेत को दीमक से बचाने का तरीक़ा खोज निकालने पर देश-विदेश में मिला सम्मान

खबरें और भी हैं...