पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैक्सीन का असर:इजरायल में 26% लोगों को लगा वैक्सीन का एक डोज, तेजी से वैक्सीन लगने के बाद वायरस पर काबू

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका सहित कई देशों में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की एक बार फिर बाढ़ आ गई है। इस भयावह स्थिति से बाहर निकलने का एकमात्र रास्ता वैक्सीन है। इंग्लैंड और खासतौर से इजरायल में हुए अध्ययनों से बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन के फायदों के संकेत मिले हैं।

इंग्लैंड में कोविड-19 से 85% मौतें 70 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों की हुई हैं। अस्पतालों में भी इसी आयु के अधिक लोग भर्ती हैं। सबसे अधिक बोझ अस्पतालों की इंटेसिव केयर यूनिट्स पर है। इनमें अधिक मरीज 50 से 60 साल के हैं। ब्रिटिश अस्पतालों के आईसीयू में 20-49 वर्ष और 70 साल की आयु के मरीजों की संख्या लगभग बराबर है। इसका अर्थ है कि जहां वैक्सीनेशन की गति धीमी है, वहां आने वाले समय में अधेड़ आयु के कोविड-19 मरीजों की मौतें बढ़ सकती हैं क्योंकि आईसीयू भरे हैं। इंग्लैंड और इजरायल के ताजा अध्ययनों का निष्कर्ष है कि जब कोविड आईसीयू पूरे भरे हैं तब उनमें मृत्यु दर पूर्व अनुमान के मुकाबले 20-25% कम है।

इजरायल पहली जगह है जहां व्यापक वैक्सीनेशन से बदलाव के सबूत मिले हैं। 19 जनवरी को वैक्सीनेशन का एक माह पूरा होने तक इजरायल की 90 लाख आबादी में से 26% लोगों को वैक्सीन की एक डोज लगाई जा चुकी थी। क्लेलिट रिसर्च इंस्टीट्यूट, तेलअवीव के रेन बेलिसर और उनके सहयोगियों ने वैक्सीन लगवा चुके 60 साल से अधिक के दो लाख लोगों के समूह और ऐसे ही अन्य समूह की तुलना की जिसे वैक्सीन नहीं लगी थी। स्टडी के पहले 12दिनों में दोनों ग्रुप की पॉजिटिव टेस्ट दर एक समान थी। 13 वें दिन वैक्सीन वाले ग्रुप की दर में थोड़ी गिरावट आई। 14 वें दिन उनमें 35% दर्ज की गई। वैसे, गिरावट बहुत अधिक नहीं है लेकिन फाइजर-बायो एनटेक की इस वैक्सीन की दो डोज लगाना पड़ती है। वैक्सीनेशन के कारण इजरायल के अस्पतालों को राहत मिलने की स्थिति 15 दिन बाद ज्यादा दिखाई पड़ने लगी। 2 जनवरी को 60 साल से अधिक आयु के 40% लोगों को वैक्सीन लग चुकी थी। 2 जनवरी से पहले के सप्ताह में उस आयु के गंभीर रूप से बीमार लोगों की संख्या 30% बढ़ी। लेकिन, उसके बाद वाले सप्ताह में केवल 7% बढ़ोतरी हुई।

बच्चों के लिए वैक्सीन 2022 तक
बच्चों के लिए अभी तक किसी वैक्सीन को मंजूरी नहीं मिली है। वैसे, 12 साल के बच्चों पर कुछ वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो गए हैं। इसके परिणाम जल्द सामने आएंगे। इससे कम आयु के बच्चों पर ट्रायल में लंबा समय लगेगा। अधिकतर बच्चों के लिए कोविड-19 वैक्सीन के 2022 के पहले मंजूर होने की संभावना नहीं है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें