पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्पेस टूरिज्म:बीस साल में इंडस्ट्री से 74 लाख करोड़ रुपए की आय का अनुमान

9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

11 जुलाई को वर्जिन गैलेक्टिक कंपनी के प्रमुख रिचर्ड ब्रानसन की अंतरिक्ष के दरवाजे पर दस्तक के साथ इस इंडस्ट्री में संभावनाओं के नए दरवाजे खुले हैं। 20 जुलाई को अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस भी अपनी कंपनी ब्लू ओरिजन के स्पेसक्राफ्ट से स्पेस की सैर करेंगे। हार्वर्ड बिजनेस स्कूल के मैथ्यू वीनजिएरिल कहते हैं, पहली बार समृद्ध कंपनियों ने स्पेस टूरिज्म के विकास को बड़े पैमाने पर हाथ में लिया है।

अब आंत्रप्रेन्योर और फाइनेंसर सरकारों के लिए सुरक्षित क्षेत्र में कदम रख रहे हैं। 2020 में निवेशकों ने स्पेस के बिजनेस में दो लाख करोड़ रुपए से अधिक लगाए हैं। बैंकिंग विशेषज्ञों को सितारों के कारोबार में भारी मुनाफे की आशा है। मोर्गन स्टेनले के विशेषज्ञों का कहना है, 2040 तक अंतरिक्ष की आर्थिकी से 74 लाख 40 करोड़ रुपए की आय होने लगेगी। मौजूदा आय 2.61 लाख करोड़ रुपए है। यूबीएस का अनुमान है कि इस दशक के अंत तक आय 59 लाख करोड़ रुपए हो सकती है।

ब्लू ओरिजिन का मुख्य लक्ष्य लोगों को केवल अंतरिक्ष की सैर भर कराना नहीं है। कंपनी का फोकस उपग्रह छोड़ने के लिए बड़े नए रॉकेट न्यू ग्लेन का निर्माण करना है। वह आधुनिक रॉकेट एंजिन बेचना चाहती है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा से कांट्रेक्ट पर मानवों को चांद पर भेजेगी। बेजोस छोटी यात्राओं की बजाय बड़े पैमाने पर अंतरिक्ष आधारित अर्थव्यवस्था बनाना चाहते हैं।

धरती की बाहरी कक्षा में चक्कर लगाने के लिए भी लोगों में आकर्षण है। बेजोस के साथ उड़ान पर जाने के लिए 7600 लोगों ने बोली लगाई थी। विजेता ने लगभग 200 करोड़ रुपए चुकाए हैं। वर्जिन गैलेक्टिक का कहना है, उसके पास सैकड़ों लोगों की प्रतीक्षा सूची है। इनवेस्टमेंट बैंक कोवेन के एक सर्वे में पाया गया कि पांच में दो व्यक्ति अंतरिक्ष यात्रा के लिए दो करोड़ रुपए खर्च करने तैयार हैं। वर्जिन गैलेक्टिक के चेयरमैन चमथ पालिहेपटिया कहते हैं, स्पेस टूरिज्म इंडस्ट्री में मुनाफे का मार्जिन 70% होने की उम्मीद है। बहरहाल, लंबे-चौड़े दावों को छोड़ दें तो कम से कम दस-बीस वर्ष तक स्पेस कारोबार में स्पेस टूरिज्म का बड़ा हिस्सा नहीं होगा। आने वाले वर्षों में सेक्टर को पूंजी निवेश, सुरक्षा जैसी चुनौतियां से निपटना होगा। बीते वर्षों में अमेरिका, रूस के कई अंतरिक्ष मिशन गंभीर दुर्घटनाओं के शिकार हो चुके हैं।

खबरें और भी हैं...