टेक्नोलॉजी का भविष्य:पांच दिग्गज टेक कंपनियों ने 3 साल में 110 कंपनियां खरीदीं, 2021 में ही 20 लाख करोड़ रुपए का निवेश

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गूगल, फेसबुक, अमेजन, एपल, माइक्रोसॉफ्ट ने नए क्षेत्रों में दांव लगाया

बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों की महत्वाकांक्षा और मनमानी की क्या कोई सीमा है? अक्टूबर में मार्क जकरबर्ग ने फेसबुक का नाम मेटा करते हुए आभासी दुनिया (वर्चुअल वर्ल्ड) को मानवजाति का भविष्य बताया था। 18 जनवरी को माइक्रोसॉफ्ट ने वीडियो गेम कंपनी एक्टिविजन ब्लिजार्ड को पांच लाख करोड़ रुपए से अधिक में खरीद लिया। ये फैसले अमेरिका की पांच बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों-अल्फाबेट (गूगल), अमेजन, एपल, मेटा और माइक्रोसॉफ्ट द्वारा बड़े पैमाने पर किए जा रहे निवेश से अलग हैं। इन कंपनियों ने पिछले वर्ष 20.84 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया है।

ड्राइवर विहीन कारों से लेकर क्वांटम कंप्यूटिंग सहित कई क्षेत्रों में पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है। यह बदलाव इसलिए क्योंकि 2010 के दशक में आगे बढ़ी कंपनियों को भय है कि उनका कारोबार और महत्व कम हो जाएगा। एक-दूसरे के बिजनेस में उनकी हिस्सेदारी बढ़ रही है। इसलिए वे नए क्षेत्र में किस्मत आजमा रहे हैं। कोई नहीं जानता कि आगे क्या होगा। संभव है,नए डिवाइस संपर्क के माध्यम, सूचना और सेवाओं के मामले में स्मार्टफोन को पीछे छोड़ दें। इसलिए एपल की योजना मेटा के ओकुलस रेंज और माइक्रोसॉफ्ट के होलोलेंस से प्रतिस्पर्धा के लिए वर्चुअल रियलिटी हेडसैट बनाने की है। अल्फाबेट, एपल और अमेजन ने ऑटोनोमस कारों पर ऊंचा दांव लगाया है।
दिग्गज कंपनियों की एक अन्य प्राथमिकता ऐसे सॉफ्टवेयर प्लेटफार्म बनाने की है जिन्हें वे किराए पर दे सकें। फेसबुक मेटावर्स नामक ऑनलाइन आभासी प्रोजेक्ट पर सालाना 74 हजार करोड़ रुपए खर्च करेगी। एपल फिटनेस क्लास और टेलीविजन शो जैसे क्षेत्रों की ओर बढ़ रही है। माइक्रोसॉफ्ट ने अपने गेमिंग कस्टमरों को बेहतर अनुभव देने के लिए एक्टिविजन खरीदा है। उसने कॉर्पोरेट यूजरों के लिए वर्चुअल 3-डी वर्कप्लेस प्लेटफॉर्म मेश का अधिग्रहण किया है।
अब कंपनियों का फोकस मेटा, चिप, कंप्यूटिंग और कारों पर

- पांच बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियां ने 2021 में रिसर्च और डेवलपमेंट पर 11 लाख करोड़ रुपए से अधिक खर्च किए हैं। - पिछले तीन साल में पांच बड़ी कंपनियों ने 110 कंपनियां खरीदी हैं। सबसे अधिक खर्च माइक्रोसॉफ्ट ने किया है। - क्लाउड में माइक्रोसॉफ्ट,अमेजन से पीछे चल रही गूगल ने क्लाउड आधारित तीन कंपनियां खरीदी हैं। - फेसबुक की मेटा ने आगमेंटिड रियलिटी में काम करने वाली आठ कंपनियां खरीदी हैं। - एपल ने भी चार अन्य कंपनियों का अधिग्रहण किया है। - अमेजन ने दो कार कंपनियों-ऑरोरा और रिवियन में पैसा लगाया है। उसने इसके अलावा जूक्स कंपनी भी खरीदी है। - गूगल ने भी दो सेल्फ ड्राइविंग कार कंपनियों में निवेश किया है।

खबरें और भी हैं...