हिंसक अपराध बढ़े:अमेरिका में हत्याओं की दर अमीर देशों से छह गुना अधिक

14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले माह सेंट लुई शहर के एक उपनगर में 25 वर्षीय अश्वेत युवक डेमियन की नाइट क्लब से लौटते हुए कार पार्किंग में हत्या कर दी गई थी। वे तीन लाख की आबादी के शहर में इस वर्ष अब तक मारे गए 132 लोगों में शामिल हैं। 2021 में 199 व्यक्तियों की हत्या के साथ सेंट लुई में हत्याओं की दर अमेरिका में किसी अन्य बड़े शहर से अधिक रही। केवल मेक्सिको, वेनेजुएला और दक्षिण अफ्रीका के बड़े शहरों में अमेरिका से अधिक हत्याएं होती हैं।

सरकारी एजेंसी बीमारी नियंत्रण सेंटर के अनुसार अमेरिका में 2020 में 24500 हत्याएं हुई थीं। यह 2019 के मुकाबले 28% बढ़ोतरी थी। सौ साल में पहली बार इतनी अधिक वृद्धि दर्ज की गई थी। हत्याओं की दर बड़े शहरों, उपनगरों, कस्बों और ग्रामीण इलाकों में बढ़ी है। हर रंग, नस्ल, आयु समूह के लोग हिंसा के शिकार हुए हैं। लेकिन बड़े शहरों में रहने वाले अश्वेत युवाओं की संख्या अधिक है। 19350 हत्याएं गन से की गईं। उस वर्ष 12 हजार अश्वेतों की हत्या हुई थी। अमेरिका में हत्याओं की दर ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी से छह गुना और जापान से बीस गुना अधिक है। हत्याओं के नए आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं पर शहरों के आंकड़े बताते हैं कि बढ़ोतरी की दर में कमी नहीं आई है। 2021 में शिकागो में 800 हत्याएं हुई थीं। यह 1994 के बाद सबसे अधिक है। हत्याओं की दर अश्वेत बस्तियों में नए स्तर पर पहुंच गई।

अब तक अमेरिका के सबसे अधिक सुरक्षित शहर न्यूयॉर्क में हत्याओं की दर दस साल में सबसे अधिक पिछले साल रही। टेक्सास में आस्टिन और ओरेगांव के पोर्टलैंड में हत्याओं के सभी रिकॉर्ड टूट गए। इस साल अब तक शिकागो, न्यूयॉर्क सहित कई शहरों में हत्याओं में थोड़ी कमी हुई है। फिर भी, उनकी संख्या महामारी से पहले से अधिक है।

31 लाख करोड़ रु. की क्षति

हिंसक अपराधों के कई प्रभाव होते हैं। इससे शहरों में निवेश और टैक्स घटता है। 2004 की एक गणना के मुताबिक इस हिसाब से एक हत्या से समाज को 77 करोड़ रुपए का नुकसान होता है। यह आज 125 करोड़ रुपए होगा। अमेरिका में हत्याकांडों से एक साल में कुल 31.89 लाख करोड़ रुपए का नुकसान होता है। यह जीडीपी का 2% है।

खबरें और भी हैं...