पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

व्यापारियों की चिंता:पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड सऊदी में दुनिया का सबसे बड़ा वेल्थ फंड, प्राइवेट सेक्टर को नुकसान की आशंका

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छह साल पहले सऊदी अरेबिया के बाहर किसी ने भी ब्लू चिप कंपनियों में पैसा लगाने वाले पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड (पीआईएफ) के संबंध में नहीं सुना होगा। आज यह विश्व का सबसे बड़ा वेल्थ फंड है। उसने पिछले साल विदेशी निवेश, पश्चिम तेल कंपनियों और क्रूज लाइनों में हिस्सेदारी की खरीद में अरबों रुपए लगाए हैं। उसने इंग्लिश फुटबॉल क्लब न्यू कैसल भी खरीद लिया है। वह देश में रिजॉर्ट, फाइनेंशियल डिस्ट्रिक्ट और लाल सागर पर आधुनिक शहर का निर्माण भी कर रहा है।

खाड़ी देशों में सोवरीन वेल्थ फंड तेल भंडार खत्म होने के बाद बनने वाली स्थिति को ध्यान में रखकर शुरू किए गए हैं। यह पेचीदा काम हो सकता है। ऐेसे फंड को तेल निर्यात से मिले धन को जोखिम भरे प्रोजेक्ट में लगाने के साथ देश में भी अर्थव्यवस्था को नया रूप देना होगा।

प्रिंस सलमान की योजना के तहत शेयर बाजार में लिस्टेड सऊदी कंपनियों को अपनी लाभांश घटाकर स्थानीय तौर पर पांच खरब रियाल निवेश करना पड़ेगा। इनमें प्रमुख हैं, सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी अरामको और उसकी सहायक कंपनी एसएबीआईसी। अरामको के लाभांश में कटौती का असर सऊदी सरकार पर पड़ेगा। वह अरामको की सबसे बड़ी शेयर होल्डर है। जाहिर है, बजट पर दबाव बढ़ेगा। यह इस साल 7% घट चुका है। महामारी के कारण तेल की मांग घटने और मूल्य कम होने से पिछले साल बजट का वास्तविक खर्च बहुत कम रहा। प्रिंस सलमान का पैंतरा जोखिमभरा है।

व्यवसायी चिंतित
पीआईएफ ने 2021 से 2015 के बीच खेती और एयरोस्पेस में 150 अरब रियाल के निवेश का इरादा जताया है। इस हलचल से कुछ सऊदी व्यवसायी चिंतित हैं। वे सोचते हैं कि यह फंड प्राइवेट सेक्टर को नुकसान पहुंचाएगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें