पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Magazine
  • Economist
  • Some Countries Imposed 140 Restrictions On Businesses In The Epidemic; Foreign Investment Stopped, This Will Increase Difficulties 4 April 2021

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्लोबलाइजेशन का असर:महामारी में कुछ देशों ने कारोबार पर 140 प्रतिबंध लगाए; विदेशी निवेश रोका, इससे मुश्किलें बढ़ेंगी

16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकारों के मनमाने नियमों से वैश्विक सप्लाई चेन के सामने कई समस्याएं
  • अंतरराष्ट्रीय कारोबार के नियमों में गिरावट आने से देशों के बीच अविश्वास बढ़ा

पिछले दिनों दो लाख टन वजनी मालवाहक जहाज के कारण स्वेज नहर में ट्रैफिक ठप होने की घटना ने वैश्विक कारोबार के महत्वपूर्ण पहलू की ओर ध्यान खींचा है। एवर गिवन जहाज विश्व का सबसे बड़ा कंटेनर शिप होने के साथ ग्लोबलाइजेशन के बहुत ज्यादा विस्तार का प्रतीक भी है। 1990 से कंपनियां उन स्थानों पर मैन्युफैक्चरिंग कराती हैं जहां लागत कम है। हालांकि, अब इसके साथ परेशानियां बढ़ी हैं। जैसे किसी बहुत बड़े जहाज को चलाना आसान नहीं हैं, वैसी ही स्थिति विराट सप्लाई चेन की है। वायरस महामारी के बीच सरकारों ने 140 से अधिक व्यापारिक पाबंदियां लगाई हैं। विदेशी निवेश पर रोक बढ़ी है। सरकारों की मनमानी से ग्लोबलाइजेशन के लिए कई खतरे पैदा हो गए हैं।

सेमीकंडक्टर की कमी से दुनियाभर में कार कंपनियों के प्लांट ठप होने की नौबत है। चीन ने स्वीडिश कंपनी एच एंड एम का डिजिटल बहिष्कार कर दिया है। यह कंपनी उइगुरों को हिरासत में रखकर जबरिया मजदूरी कराने के विरोध में चीन के शिनजियांग प्रांत से कपास नहीं लेना चाहती है। भारत और यूरोपियन यूनियन के वैक्सीन निर्यात पर रोक लगाने से दुनिया में वैक्सीनेशन प्रभावित हुआ है। महामारी और भू राजनीतिक तनावों से जूझती सरकारों का नया मंत्र आत्मनिर्भरता है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वोकल फॉर लोकल का नारा दिया है। बाइडेन ने 24 फरवरी को सुरक्षा के पहलू को ध्यान में रखकर अमेरिका की सप्लाई चेन की 100 दिन तक समीक्षा करने का आदेश दिया है। अमेरिका,आस्ट्रेलिया सहित कई पश्चिमी देशों ने दुर्लभ खनिजों का उत्पादन बढ़ाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। ये खनिज स्मार्ट फोन, सेमी कंडक्टर, इलेक्ट्रिक कार, बैटरियों जैसे कई जरूरी प्रोडक्ट बनाने में इस्तेमाल होते हैं। इनमें से कई खनिजों की सप्लाई में चीन का बोलबाला है।

9 मार्च को यूरोपियन यूनियन ने कहा कि वह 2030 तक विश्व के चिप निर्माण में अपनी हिस्सेदारी दोगुना बढ़ाकर 20% करेगी। उसने 2025 तक बैटरियों के मामले में अात्मनिर्भर होने का संकल्प लिया है। पिछले साल राष्ट्रपति शी जिन पिंग ने चीन की अर्थव्यवस्था को बाहरी दबाव से बचाने के लिए अभियान शुरू किया है। अात्मनिर्भरता सुरक्षित तो लगती है पर हर किसी को याद रखना चाहिए कि उनके खाने-पीने की चीजें, फोन, परिधान, वैक्सीन और बहुत कुछ ग्लोबल सप्लाई चेन के हिस्से हैं। कंपनियों ने विदेशों में मैन्युफैक्चरिंग पर 26 लाख करोड़ रुपए से अधिक लगाए हैं। ग्लोबलाइजेशन खत्म होने से यह निवेश बेकार चला जाएगा। ग्लोबलाइजेशन की मौजूदा स्थिति ने कई दशक में आकार लिया है। इसके फायदों को ध्वस्त नहीं होने देना चाहिए।

एक जगह उत्पादन होेने से कई समस्याएं
वैश्वीकरण के खिलाफ शिकायत है कि उससे एक जगह उत्पादन केंद्रित हुआ है। दूसरा पहलू देखिए। आईफोन 49 देशों में फैले एपल के मैन्युफैक्चरिंग नेटवर्क पर निर्भर है। दवा कंपनी फाइजर के पांच हजार से अधिक सप्लायर हैं। इधर, कई रुकावटें खड़ी हो गई हैं। आधे से अधिक आधुनिक सेमीकंडक्टर ताइवान और दक्षिण कोरिया में बनते हैं। कंसल्टिंग कंपनी मेकिंसे का कहना हैै, अकेले एक देश का लगभग 180 उत्पादों के निर्यात पर एकाधिकार है।

अमेरिका-चीन के बीच टकराव का खतरा बढ़ा
दुनिया में टकराव बढ़ने से किसी एक देश पर सप्लाई के लिए निर्भरता के अपने खतरे हैं। विभिन्न देशों का एक-दूसरे पर भरोसा कम हो गया है। महामारी के दौरान देशों ने कारोबार पर 140 से अधिक खास पाबंदियां लगाईं हैं। दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनियों और कार्बन बढ़ाने वाले आयात पर टैक्स लगाने जैसी समस्याओं की अनदेखी से देशों ने तमाम मसले अपने हाथ में ले लिए हैं। अमेरिका और चीन के बीच तनातनी से टकराव का खतरा बढ़ रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें