इंस्पायरिंग:खु़द से ईमानदार बने रहें, अपने लक्ष्यों के बीच किसी को न आने दें - नीता अंबानी

21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अंबानी परिवार के लंदन में एक आलीशान घर खरीदने से चर्चा में हैं...

‘प्यारे बच्चो, ग्रेजुएशन सेरेमनी का यह दिन हमेशा ही मेरे लिए खास और भावुक करने वाला होता है। यह वह दिन होता है जब हम पीछे देखते हैं तो खुशी के पल याद आते हैं और आगे देखते हैं तो आशा से भर जाते हैं। इस दिन अहसास होता है कि हमारे छोटे बच्चे अब बड़े हो गए हैं, उड़ान के लिए तैयार हैं। अपना आसमान ढूंढने के लिए निकल रहे हैं।

हम सब जानते हैं कि पिछले 75 वर्षों में साल 2020 सर्वाधिक चुनौतीपूर्ण रहा। कोविड-19 महामारी ने दुनियाभर में जिंदगी को हिला दिया। महामारी के बावजूद आप में से हर एक, इस मुश्किल समय को पार करने में सफल रहा। अभी हम सब एक साथ हैं और साथ होने की खुशी से बड़ा कुछ नहीं। हमारी यह मुलाकात भले ही वर्चुअल हो, लेकिन इससे यह खुशी कम नहीं होना चाहिए।

बच्चों, दुनिया को आज आपकी जरूरत है, शायद इतनी पहले कभी नहीं रही होगी। दुनिया को आपकी चमक चाहिए, आपकी प्रतिभा चाहिए, आपकी आशापूर्ण दृष्टि चाहिए। इन सबसे ऊपर...आपकी बदलाव को स्वीकारने की अद्भुत क्षमता चाहिए।

2020 ने उन चीजों को देखने का नजरिया बदला जिन्हें हम अपने लिए हर वक्त उपलब्ध समझते रहे हैं। इस साल ने आपको मजबूत बनाया है जिससे आप दुनिया का सामना करने के लिए तैयार हैं। अनिश्चितता की गहराई में इंसानियत की भावना का उदय होते आपने देखा है। कठिन वक्त में हमने अपनी नेमत गिनी हैं और उन्हें महसूस भी किया है। इस वक्त ने ही हमें अहसास दिलाया कि असल बातें क्या हैं जो वाकई मायने रखती हैं। परिवार को वक्त देना हमने सीखा, स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हुए।

इस कठिन दौर में हमने शिक्षा के महत्व को जाना। अवसर ढूंढने की क्षमता का विकास किया। इन सबसे ऊपर ... जरूरतमंदों की मदद करने की अपनी क्षमता को पहचाना। बच्चों, मैं खुश हूं कि आपने इस बदलाव को खुले दिल से स्वीकारा। हमने सीखा कि बदलाव ही एकमात्र स्थायी चीज है।

अब स्पॉटलाइट आप पर है। यह लम्हा आपका है। आप लोग ऐसे वक्त में ग्रेजुएट हो रहे हैं, जो मानवता के इतिहास में किसी ने नहीं देखा है। ऐसी लड़ाई हमने पहले कभी नहीं लड़ी। दुनिया के पहिए ने नए तरीके से घूमना सीखा... टेक्नोलॉजी की सहायता से सब कुछ ऑनलाइन हुआ। मरीजों को ऑनलाइन इलाज मिला, बच्चों को सामान... घर बैठकर ऑफिस का काम हमने किया। हम कृतज्ञ होना सीखे।’

‘बुरे दौर में हमेशा ऊपर देखो’

बुरे दौर में जब सब उलट-पुलट, ऊपर-नीचे हो जाए तो हमेशा ऊपर की ओर देखो। आपका ध्यान सकारात्मक चीजों पर होना चाहिए। कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह साल इतिहास में कैसे दर्ज किया जाएगा, आप अपना वो काम कीजिए, जिसे करने के लिए आप बने हैं। आपके और आपके लक्ष्यों के बीच आने का हक किसी को नहीं है, महामारी को भी नहीं। खुद पर यकीन बनाए रखिए और दूसरों की मदद करना कभी बंद मत कीजिए। और सबसे जरूरी बात... खुद से ईमानदार बने रहिए। जो आप हैं, वो ही रहें...।

(धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल की क्लास 2020 की ग्रेजुएशन सेरेमनी पर नीता अंबानी)

खबरें और भी हैं...