पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सेल्फ हेल्प:बदलाव किसी निश्चित तारीख या समय पर निर्भर नहीं होते हैं

23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जानिए इंसान के जीवन में कितना मायने रखते हैं आत्मसम्मान, बदलाव, लक्ष्य और सफलता। किताबों में लिखी ये बातें हैं बेहद काम की...

कभी बदलाव अच्छे होते हैं तो कभी विरुद्ध, सहज बने रहें

बदलाव किसी निश्चित तारीख या समय पर निर्भर नहीं, यह तो सतत चलने वाली प्रक्रिया है। जीवन हर पल बदलता है। कभी बदलाव अच्छे होते हैं, कभी विरूद्ध। जब आप बदलाव का सामना करते हैं तो आपको गुस्सा, अशांति, दर्द, चिंता या तकलीफ होती है। खुश रहना है, तो बदलाव को सहजता से अपनाएं। अपनी ऊर्जा को गुस्सा करने में चिंता में या लड़ने में व्यर्थ न करें। (लीडिंग चेंज)

आत्मसम्मान में कमी लगे तो यह सोचें कि आप अलग हैं

जब चीजें गड़बड़ाती हैं तो अक्सर हम अपना सम्मान करना छोड़ देते हैं। जब आत्मसम्मान में कमी का अहसास हो तो खुद को याद दिलाओ कि जो आप कर सकते हैं वो कोई और नहीं कर सकता। लोगों को आपकी जरूरत है। आपकी आदतें और नजरिया उदाहरण बनते हैं जिसका अनुसरण दूसरे करते हैं। आत्मसम्मान प्रस्तुत करके आप गर्व महसूस कर सकते हैं। (द मैजिक ऑफ थिंकिंग बिग)

लक्ष्य की स्पष्ट कल्पना करना जरूरी, यह ताकत देती है

जब लोग अपने लक्ष्यों से पिछड़ जाते हैं तो इसके पीछे एक कारण उनके मन में लक्ष्य का स्पष्ट चित्रण ना होना भी होता है। जैसे- यदि आप अच्छे घर की चाह रखते हैं पर इस अभिलाषा को आपके मानसिक चित्रण का सहयोग नहीं मिलता तो घर की चाह पर लगने वाली मानसिक ऊर्जा भी कम हो जाएगी। यह कमी इस लक्ष्य के पूर्ण होने में बाधा उतपन्न करेगी।(मैक्सिमम अचीवमेंट)

डर और असुरक्षा को किस तरह खत्म किया जा सकता है

बड़ी सफलता और उपलब्धि पाने की आपकी क्षमता का सबसे बड़ा दुश्मन है आपका कंफर्ट ज़ोन। विकास, प्रगति और उन्नति के लिए परिवर्तन जरूरी है। जीवन एक जैसा नहीं चलता। कोई भी व्यक्ति स्थिति को बेहतर करने वाले परिवर्तन से नहीं डरता। जब लक्ष्य स्पष्ट हों और उनके साथ कर्म की विस्तृत योजनाएं हों, तो आप डर और असुरक्षा को खत्म कर देते हैं। (मेज़र वॉट मैटर्स)

खबरें और भी हैं...