टिप्स:इन चार कारणों से अक्सर गलत नौकरी चुन लेते हैं लोग

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ज्यादातर लोग इस बात को लेकर बेहद स्पष्ट रहते हैं कि वो अपनी नौकरी से क्या उम्मीद करते हैं। दरअसल उन्हें यह चाहिए होता है कि उनकी काबिलियत दुनिया के सामने आए, लोग उन्हें पहचानें, उनकी क्षमताओं का अहसास करें। समाज में उनकी एक खास जगह हो। लेकिन इस सोच के बावजूद अधिकतर लोग नौकरी चुनने में गलतियां कर बैठते हैं। ये हैं वो चार मुख्य कारण, जिनकी वजह से नौकरी चुनने में अक्सर लोगों से हो जाती है गलती...

1) अपने लिए सही काम का चुनाव नहीं करते हैं
मेटा-एनालिटिकल शोध बताते हैं कि लोगों की सैलरी और जॉब सैटिस्फेक्शन के बीच कोई संबंध नहीं होता। जो वकील साल में एक करोड़ रुपए कमाता है वो अपनी नौकरी से उतना ही संतुष्ट है, जितना एक नर्स लाख रुपए साल के कमाकर। भले ही लोग कहें कि वो अपना काम कम करने के लिए या मनपसंद नौकरी के लिए अपनी आय कम करने को भी तैयार हैं, तो भी वो सही काम नहीं चुनते हैं।

2) कंफर्ट जोन से बाहर नहीं निकलना चाहते हैं
बात जब नौकरी चुनने या करियर बनाने की होती है तो लोग ‘अनजाने डर से जाना-पहचाना दुश्मन अच्छा’ वाली रणनीति के आधार पर ही काम करना पसंद करते हैं। हो सकता है कि ज्यादातर लोग कई सालों से बेमन से बेमतलब की नौकरी कर रहे हों या बेहद खराब मैनेजर्स के नीचे काम रहे हों, लेकिन फिर भी वो कुछ नया करने से घबराते हैं, हिचकिचाते हैं।

3) अपने हुनर को खुद ही नहीं पहचान पाते हैं
ज्यादातर लोग लंबे अर्से तक अपने ही हुनर को नहीं पहचान पाते हैं। आम तौर पर वो लोग जो नौकरी नहीं करना चाहते हैं, केवल इसलिए कि वो अपना कुछ काम करना चाहते हैं, वो ज्यादा मेहनत करते हैं और इस कड़ी मेहनत के बदले बहुत थोड़े से पैसे ही कमा पाते हैं। जबकि वो ये नहीं समझते कि अपने हुनर के अनुसार नौकरी करके वो ज्यादा सफल और ज्यादा संतुष्ट और खुश रह सकते हैं।

4) अपने काम से अवास्तविक उम्मीदें रखते हैं
सफल हायरिंग प्रक्रिया के अंतर्गत सही काम के लिए सही व्यक्ति का चुनाव करना भी बहुत जरूरी है। इसका मतलब यह है कि आवेदक को अपने काम के बारे में पूरी जानकारी और गहरी समझ होनी चाहिए। अगर आपकी अपने काम को लेकर गलत धारणा है या अपने काम से आप अवास्तविक उम्मीदें रखते हैं, तो जीवन में आगे बढ़ना और काम का सही चुनाव करना आपके लिए मुश्किल हो सकता है।

खबरें और भी हैं...