लेसन्स फ्रॉम ग्रेट थिंकर्स:जो स्वयं खुश रहता है वही दूसरों को खुश रखता है - एन फ्रैंक

17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एन फ्रैंक बेहद मशहूर किताब, ‘द डायरी ऑफ अ यंग गर्ल’ की लेखिका हैं। 1942 से 1944 तक विश्वयुद्ध के दौरान हुए अनुभव उन्होंने अपनी डायरी में लिखे थे जिन पर ये किताब प्रकाशित हुई थी।

- जिंदा इंसान को इतने फूल नहीं दिए जाते जितने कि मर चुके इंसान पर चढ़ाए जाते हैं क्योंकि आभार के मुकाबले हम खेद ज्यादा मजबूती से व्यक्त करते हैं।

- इंसान की महानता उसकी दौलत और सत्ता पर निर्भर नहीं करती, ये तो निर्भर करती है उसके चरित्र व अच्छाई पर। हर इंसान में कमियां पाई जाती हैं और हर इंसान गलती भी करता ही है लेकिन हम सभी में कुछ अच्छाई तो बुनियादी रूप से होती है।

- ये सोच कितनी अद्भुत है कि हमारे जीवन के सबसे अच्छे दिन तो अभी आना बाकी हैं।

- आप कुछ न कुछ तो हमेशा दे सकते हैं, भले ही वो थोड़ी सी दया हो। यदि हम दया भाव भरे शब्दों में कंजूसी नहीं करेंगे तो संसार में हर तरफ प्यार और न्याय दिखाई देगा।

- अपना जीवन हम खुद तय करते हैं। पहले हम अपनेचुनाव करते हैं, बाद में ये चुनाव हमें बनाते हैं।

- देखिए, कैसे एक अकेली मोमबत्ती अंधेरे को उपेक्षित करते हुए परिभाषित करती है।

- मैं सूर्य पर पूर्ण विश्वास करती हूं, बरसात में भी।

- जो हो गया उसे वापस नहीं किया जा सकता, लेकिन दोबारा होने से रोका तो जा ही सकता है।

- देने से कभी कोई गरीब नहीं हुआ।

- आप नहीं जानते आप कितना प्यार दे सकते हैं, कितना पा सकते हैं। आप नहीं जानते कि आप में क्या क्षमताएं हैं।

खबरें और भी हैं...