टिप्स:सहकर्मी बुराई करे तो तुरंत जवाब ना दें, शांत होकर विचार करें

6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कई बार ऑफिस में आलोचनाओं से आप विचलित हो सकते हैं। ऑफिस में कई लोग ऐसे हो सकते हैं, जो सबसे पहले आपका विरोध करते हों। कुछ ऐसे भी हो सकते हैं, जिन्हें आप अपना करीबी समझते हों, लेकिन उनसे ही आपको आलोचनाएं सुनने को मिले। ऐसे में आपका व्यवहार कैसा होना चाहिए? आलोचनाओं के प्रति आपका रेस्पॉन्स कैसा होना चाहिए...हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू ने इस पर प्रकाश डाला है....।

जब कोई आपकी बुराई करने लगे तो धैर्य रखें

जब ऑफिस का कोई साथी अचानक ही आपकी बुराई करने लगे तो तुरंत जवाब देने की बजाय धैर्य से काम लें। थोड़ा ठहर जाएं, शांत हो जाएं। अगर आप जवाब लिखकर देना चाहते हैं, तो मैत्रीपूर्ण तरीका अपनाएं। यह भी ध्यान में रखें कि इंटरनेट के जमाने में ऐसा ठीक नहीं होगा। हो सकता है कि आप जवाबों की ट्रेल शुरू कर दें जिसे लोग ऑनलाइन पोस्ट कर दें....यह आपके लिए अच्छा नहीं होगा।

देखें, कहीं आप ओवर-रिएक्ट तो नहीं कर रहे

इंटरनेट पर किसी दिन अचानक आपको कोई ऐसा ब्लॉग पोस्ट मिलता है जिसमें आपके किसी कोट को गलत अंदाज में पेश किया गया है तो ओवर-रिएक्ट ना करें। गुस्से में अपनी बात लिखने से खुद को रोकें। इस स्थिति में बहुत संभव है कि आप ना चाहते हुए भी ओवर-रिएक्ट कर जाएं। ऐसे में किसी विश्वसनीय साथी से सलाह ली जा सकती है। इसके बाद ही तय करें कि क्या और कैसे जवाब देना है।

याद रखें, ये तरक्की का इशारा हो सकता है

आपको ऐसा लगता है कि लोग आपकी बुराई करने लगे हैं तो ऐसे में हो सकता है कि आप खुद से ही सवाल करने लगें। लेकिन यह ध्यान रखें कि जब कोई भी व्यक्ति बुलंदियों पर पहुंचता है तो लोग उसे अलग-अलग तरीकों से डराने या धमकाने की कोशिश करते ही हैं। इसके अलावा कई बार लोग इसलिए भी बुराई करते हैं ताकि वो ऐसा करके अपनी एक अलग पहचान बनाना चाहते हैं।

जो आप देते हैं वही लौटकर आता है

ज़ेन मास्टर्स और सेल्फ-हेल्प गुरू हमेशा से यही कहते आए हैं कि जो लोग आपकी बुराई करते हैं उन्हें माफ कर देना चाहिए। एक सीमा तक माफ करना ठीक होता है। प्रोफेशनल लाइफ में समय के साथ लोगों को वह सब कुछ मिल ही जाता है जिसके वो हकदार होते हैं। किसी दिन आपको भी रैफरेंस के लिए कॉल आएगा। जब कोई विश्वसनीय साथी आपसे पूछेगा, तो जवाब देते हुए बहुत अच्छा महसूस करेंगे।

खबरें और भी हैं...