पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लेसन्स फ्रॉम ग्रेट थिंकर्स:जीवन सेवा है और सेवा में ही आनंद है - रबीन्द्रनाथ टैगोर

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेता थे। उन्हें गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है। बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नई जान फूंकने वाले युगदृष्टा थे।

1. प्रसन्न रहना बहुत सरल है, लेकिन सरल होना बहुत कठिन है।

2. सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाकू की तरह है, जिसमें सिर्फ ब्लेड है। यह प्रयोग करने वाले को ही घायल कर देता है।

3. मित्रता की गहराई परिचय की लम्बाई पर निर्भर नहीं करती।

4. प्रत्येक शिशु यह संदेश लेकर आता है कि ईश्वर अभी मनुष्यों से निराश नहीं हुआ है।

5. जो कुछ हमारा है, वो हम तक तभी पहुंचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं।

6. वे लोग जो अच्छाई करने में बहुत ज्यादा व्यस्त होते हैं, स्वयं अच्छा होने के लिए समय नहीं निकाल पाते।

7. मैंने स्वप्न देखा कि जीवन आनंद है, मैं जागा और पाया कि जीवन सेवा है, मैंने सेवा की और पाया कि सेवा में ही आनंद है।

8. यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाजे बंद कर देंगे तो सच बाहर रह जाएगा।

खबरें और भी हैं...