पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंस्पायरिंग:मुश्किल हालात कभी मत भूलो, हमेशा याद रखो कि शुरू कहां से किया था - ड्वेन जॉनसन

4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अमेरिका के टफ गाय ‘द रॉक’ यानी ड्वेन जॉनसन का आज 49वां जन्मदिन है। वो जितने आक्रमक डब्लूडब्लूई की रिंग में रहे, उतने ही वक्ता के रूप में मंच पर भी हैं। एक कार्यक्रम के दौरान कही उनकी कुछ प्रेरणादायी बातें...

‘मेरे लिए जिस बात ने सबसे ज्यादा काम किया वो है मुश्किल हालातों को हमेशा याद रखना। भले ही मेरे फिल्मी सफर की शुरुआत हो या डब्ल्यूडब्ल्यूूई रेसलिंग में कदम रखना हो, जब भी मेरे साथ कुछ अच्छा हुआ उससे पहले मैंने हमेशा एक पल रुककर सोचा था... कि मुझे 14 साल की उम्र में आईलैंड से बेदखल कर दिया गया था, हम हवाई में नहीं रह सकते थे, रहने को कोई जगह नहीं थी। ये बातें आज कर रहा हूं तो मुझे अहसास है कि यही तो वो सपना था जिसे मैं बचपन में देखा करता था और अब मैं यहां हूं।

मैं अपने जीवन में हुई बुरी घटनाओं को भूला नहीं हूं। कब मुझसे बॉस्केटबॉल में मेरी पसंदीदा जगह छीनी गई, कब मेरे कोच ने मुझसे बुरा बर्ताव किया.. मुझे सब याद है। इन सब बातों ने मेरे लिए उस वक्त भी काम किया और यही गुस्सा मैं मैदान में दिखाता था। मैं गुस्से के साथ अपने मैच खेलता था, यह गुस्सा था कि आखिर कब तक मैं नंबर 1 नहीं बनूंगा।

2006 से पहले रेसलिंग मैंने तब छोड़ी थी, जब मैं टॉप पर था। हॉलीवुड में भी मुझे महान बनना था। लोगों का मनोरंजन करने, फिल्म बनाने के लिए मैं प्रतिबद्ध था। इसलिए मैं रेसलिंग से चुपचाप रिटायर हो गया। दो साल बाद में सोच रहा था कि मैंने अपने करिअर के साथ ये क्या कर लिया... क्योंकि मेरी फिल्में अच्छा नहीं कर रही थीं। इस बुरे दौर से मैं तभी निकल पाया जब मैंने अपने सबसे बुरे दौर को याद किया। इसी से मुझे आने वाले बड़े लम्हों में बिना किसी डर के प्रवेश करने की इजाजत मिलती थी।

मेरे लिए शुरुआत ही खास है फिर वो दिन की ही क्यों ना हो! मैं सुबह चार बजे उठ जाता हूं। बुरा वक्त तो आता रहेगा, उसको रोकने के लिए आपको प्रतिबद्ध होना होगा।

डब्ल्यूडब्ल्यूूई में मेरा आखिरी मैच जॉन सिना के साथ था। यह करीब 45 मिनट चलना था। ये वो दौर था जब मैं रिंग में काफी कम वक्त बिताता था क्योंकि मेरी फिल्मों की शूटिंग लगातार चलती थी, मैं खूब ट्रैवल करता था। स्टेडियम खचाखच भरा था, करीब 85 हजार लोग वहां थे। मैच शुरू हुए चंद मिनट ही हुए थे और हम दोनों ही गिरे हुए थे। मैं अपने हाथ से पैरों को टटोल रहा था कि कहीं कोई हड्डी बाहर तो नहीं निकल आई है। हड्डियां जगह पर थीं लेकिन मुझे महसूस हो गया था कि कुछ गड़बड़ है। रैफरी ने मुझसे पूछा आप ठीक हो, मैंने कह तो दिया कि मैं ठीक हूं लेकिन मुझसे खड़ा नहीं हुआ जा रहा था। ये वो लम्हे होते हैं जो निर्णायक होते हैं। मैं रैफरी को मना कर सकता था और मैंने रैफरी से पूछा कितना वक्त शेष है, उसका जवाब था - 32 मिनट।

जैसे-तैसे मैच पूरा किया और अब मैं अपने प्लेन में फ्लोरिडा जा रहा था। वहां जाकर एमआरआई हुआ जिसमें पता लगा कि मैंने अपना अडक्टर तोड़ लिया है। मुझे गर्व था कि मैं अपने पैरों पर चलकर मैच से बाहर आया। मेरे साथ जो हुआ वो अस्थाई क्षति थी, लेकिन अगर मैं अपना सम्पूर्ण दिए बगैर मैच बीच में छोड़ देता तो उससे कभी उबर नहीं पाता। तो दोस्तों, ऐसा कुछ नहीं है जिसे आप पा नहीं सकते, आपको बस निरंतर चलते रहने की आवश्यकता है और यह याद रखने की कि आपने शुरू कहां से किया था।’

(‘लॉस एंजिलिस रॉकर्स’ के मंच पर सुपरस्टार एक्टर ड्वेन जॉनसन)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें