सेल्फ हेल्प:दबाव जितना ज्यादा होगा आप उतने रचनात्मक होंगे

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बेस्टसेलर किताबों से जानिए रचनात्मक तरीके से समस्याओं का हल कैसे निकाला जाता है, शार्टकट्स क्यों नहीं लेना चाहिए और पढ़िए कि क्यों काम करते रहने से दिमाग की सेहत बनी रहती है...

रचनात्मक तरीके से हल करें समस्याएं

शोध बताते हैं कि समस्याएं हमारे भीतर के सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालती हैं। वे आपको मजबूत और कारगर बनाती हैं। आप पर दबाव जितना ज्यादा होगा, आप उसके हल को खोजने के लिए उतनी ज्यादा भावनाएं दांव पर लगाएंगे और उतने ज्यादा रचनात्मक बनेंगे। जब आप समस्या को रचनात्मक तरीके से हल करेंगे तो ज्यादा प्रभावी भी बनेंगे। (ब्रेकथ्रू थिंकिंग)

जीवन में कभी शॉर्टकट्स ना अपनाएं

जीवन में विकास की क्रमिक अवस्थाएं होती हैं। जैसे, बच्चा पहले पलटना सीखता है, फिर बैठना, फिर घुटनों के बल सरकता है और इसके बाद चलता है। हर पायदान महत्वपूर्ण है और हर पायदान में समय लगता है। किसी पायदान को छोड़ा नहीं जा सकता। यही जीवन के सभी क्षेत्रों में सही है, शॉर्टकट्स अपनाने की ना सोचें।( हाउ टू स्टॉप वरिंग एंड स्टार्ट लिविंग )

काम से दिमाग स्वस्थ और सक्रिय रहेगा

शोध बताते हैं कि काम करते रहने से दिमाग स्वस्थ और सक्रिय रहता है। काम आपको लोगों से मिलने जुलने का मौका देता है। हर दिन नई चुनौती का सामना करने का अवसर देता है। काम ना करने से हमेशा बेहतर है काम करना। अगर अपने अगले लक्ष्य के लिए काम नहीं कर रहे हैं तो हो सकता है आप निराशा और उदासीनता के भंवर में बहते चले जाएं।(अवेकन द जाएंट विदिन )

साहस से ही मजबूत इरादे बन सकते हैं

साहस वह गुण है जो व्यक्ति को भय का शिकार हुए बिना विपरीत परिस्थितियों का मुकाबला करने योग्य बनाता है। साहस न तो निर्भीकता का नाम है, न ही उदंड व्यवहार का। साहस तो भय का मुकाबला करने का नाम है। साहस अक्लमंदी का वह प्रदर्शन है जिससे यह पता लगता है कि कब एक मजबूत इरादा बनाना है। (करेज एंड कॉन्फिडेंस)

खबरें और भी हैं...