सेल्फ हेल्प:हर दिन निश्चित मात्रा में परिवर्तन तो होंगे ही

25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चार किताबों से जानिए परिवर्तन को कैसे संभालें और निराशाओं से कैसे निपटें..

परिवर्तन का स्वागत अवसर के रूप में करें

समझदार लोग जीवन में सतत होने वाले परिवर्तन को अवसर के रूप में देखते हैं। वो परिवर्तन से लाभ उठाने के तरीकों की तलाश करते हैं। परिवर्तन का स्वागत नए अवसर के रूप में करते हैं। वहीं कुछ लोग परिवर्तन को स्वीकार नहीं करना चाहते। अपने मन में यह बात बिठा लें तो अच्छा होगा कि हर दिन निश्चित मात्रा में परिवर्तन तो होंगे ही और आपको उन्हें संभालना ही होगा। (हाउ सक्सेसफुल पीपल थिंक)

समस्याएं मजबूत और कारगर बनाती हैं

समस्याएं जीवन का सामान्य और अनिवार्य हिस्सा हैं। वो तो अटल हैं। आप चाहे जितने ही प्रयास क्यों न कर लें, जीवन में समस्याएं तो आएंगी ही। समस्या के केवल एक ही हिस्से पर आपका नियंत्रण हो सकता है और वो है समस्या पर आपकी प्रतिक्रिया। शोध बताते हैं कि समस्याएं हमारे भीतर के सर्वश्रेष्ठ गुणों को बाहर निकालती हैं, आपको मजबूत और कारगर बनाती हैं। (फर्स्ट थिंग्स फर्स्ट)

निराशाओं से निपटने की पूर्व तैयारी करें

शोध बताते हैं कि निराशा के दौर में लोगों की प्रतिक्रिया अलग-अलग होती है। अचानक निराशा आए तो क्या करेंगे? क्या उसे अपने आप पर हावी होने देंगे या दूसरों पर अपना गुस्सा उतारेंगे? कुछ लोग निराशा को लक्ष्य की राह का साथी मानते हैं और कुछ उसे रास्ते की बाधा बना लेते हैं। निराशा से उबरकर आगे बढ़ें। अपने लक्ष्य का पीछा ना छोड़ें। निराशाओं से निपटने की पूर्व तैयारी करें। (हाउ टू स्टॉप वरिंग एंड स्टार्ट लिविंग)

कभी बदलाव अच्छे होते हैं तो कभी विरुद्ध

जीवन में यदि कोई चीज स्थिर है तो वह है बदलाव। कभी बदलाव अच्छे होते हैं और कभी विरूद्ध होते हैं। अक्सर लोगों को बदलाव से डर लगता है। जब आप बदलाव का सामना करते हैं तो गुस्सा, अशांति, दर्द, चिंता या तकलीफ होती है। खुश रहना चाहते हैं तो जीवन में बदलाव को सहजता से अपनाएं। अपनी ऊर्जा को गुस्सा करने में, चिंता करने में या लड़ने में व्यर्थ न करें। (स्विच)

खबरें और भी हैं...