पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

टिप्स:निराशा और उदासी के  माहौल में क्या करें कि काम में मन लगा सकें

4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुश्किल समय में काम करना भी कठिन लगता है। काम को टालने का मन होता है, आसानी से ध्यान नहीं लगता। मन जैसे उचट-सा जाता है। आसपास सब कुछ बेमानी लगता है।

परिस्थितियां चाहे जैसी हों, हमें हिम्मत बांध कर अपनी ड्यूटी पूरी करनी चाहिए। यदि सही तरीका अपनाया जाए, तो हर हाल में अपना काम पूरा किया जा सकता है। नकारात्मक माहौल में काम करके ही मन पर सकारात्मक असर होता है। चाहे जितनी मुश्किलें आएं, हालात चाहे जैसी भी बनें, आपका काम ही आपको संभालता है। कुछ तरीकों को अपनाकर विपरीत परिस्थितियों में भी अपने काम को पूरा किया जा सकता है।

जो काम सबसे ज्यादा पसंद हो, उसी से शुरुआत करें

जब काम करने की इच्छा ना हो, मन उदास या परेशान हो तो एक बार अपने कामों की सूची को उठाकर देखें और उसमें से कोई ऐसा काम चुनें जो आपको संतुष्टि देता हो। उदासी के क्षणों में जब अपना कोई मनपसंद काम किया जाता है, तो उसे करने से थकान नहीं होती है और काम में मन भी पूरा लगता है। वह काम जो खुशी देता है और अपनी पसंद का होता है, अगर पहले उसे किया जाए तो मन लगना शुरू हो जाता है। धीरे-धीरे काम में पूरी तरह मन लगने लगता है, पता ही नहीं चलता और हम काम में खो जाते हैं। अपने काम के साथ एक लय में बहते चले जाते हैं।

जिस काम को लंबे समय से टाल रहे थे उसे शुरू करें

जिस दिन अच्छा महसूस ना कर रहे हों, उस दिन वे सभी काम कर सकते हैं जिन्हें आप अक्सर टालते रहते हैं या लंबे समय तक पेंडिंग रखते हैं। जिस दिन शरीर और दिमाग की ऊर्जा कम लगे उस दिन के लिए ऐेसे काम आदर्श होते हैं। काम करते हुए जब आपको महसूस हो कि आपका आत्मविश्वास बढ़ रहा है, नए विचार आ रहे हैं तो ऐसे में निराशा, नकारात्मकता जैसे भाव धीरे-धीरे दब जाते हैं और सकारात्मक भाव पैदा होते हैं। जब आत्मविश्वास बढ़ता है तो काम भी बेहतर होने लगता है। काम में तेजी से मन लगने लगता है और प्रोडक्टिविटी भी बढ़ जाती है।

जब उत्पादकता बढ़ेगी तो काम में भी मन लगने लगेगा

जब आपका मन उदास हो, आसपास घोर निराशा छाई हुई हो तो काम में ज्यादा प्रोडक्टिव होने की कोशिश से मन स्थिर करने में मदद मिलती है। लेकिन इस बात का भी ध्यान रखें कि जब विपरीत परिस्थितियों में हम अपना सर्वश्रेष्ठ देेने की कोशिश करते हैं तो ये काम हमें भावनात्मक और शारीरिक रूप से जरूरत से ज्यादा थकाने वाला हो सकता है। इस स्थिति से बचने के लिए थोड़ा समझौता किया जा सकता है। वह ये कि काम की मात्रा भले कम हो, लेकिन वो परिणाम देने वाला होना चाहिए। उत्पादकता बढ़ने के बाद काम करने से मन लगने लगता है।

लोगों से बात करें, नकारात्मक भावनाओं से डरें नहीं

अकेलापन तनाव बढ़ाता है और उत्पादकता घटा देता है। आप जो कुछ भी महसूस कर रहे हैं उसे किसी के साथ बांटना जरूरी है। कम से कम किसी एक साथी पर विश्वास करें और उसे बताएं कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं। विपरीत परिस्थितियों में अपना दुख बांटने के लिए वे लोग सही स्रोत नहीं हैं जिनके हम सबसे ज्यादा करीब हैं। ये विचार मन में ना लाएं कि नकारात्मक भावनाओं की वजह से आपकी प्रोडक्टिविटी नष्ट हो जाएगी। दुख और उदासी से घिरे हों, तो आपका काम ही आपको बाहर निकालता है, ये भावनाएं ही आपको ज्यादा काम करने की ऊर्जा देंगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें