पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंस्पायरिंग:‘जिंदगी में आप क्या बनेंगे... यह इस पर निर्भर है कि फॉलो किसे करेंगे’

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मशहूर इन्वेस्टर वॉरेन बफे से जानिए मैनेजमेंट के तरीके

2015 में बर्कशायर हैथवे के शेयरहोल्डर्स को लिखे एक पत्र में वॉरेन बफेट ने अपनी बात का सार प्रस्तुत करते हुए कुछ शब्द लिखे जो बताते थे कि कैसे एक महान लीडर बना जा सकता है। ये शब्द हैं - जिंदगी में आप जो बनते हैं ज्यादातर यह उस पर निर्भर करता है किसके आप गुणगान करते हैं और कॉपी करते हैं। यह विचार दरअसल असाधारण लीडर टॉम मर्फी के थे, जिन्होंने वॉरेन बफेट को वो सबकुछ सिखाया जो उन्होंने एक कंपनी को मैनेज करने के दौरान जाना था।

पसंदीदा लीडर की तीन बातें जीवन में अपनाइए

मर्फी ने केपिटल सीटीज कम्युनिकेशन्स को एक टेलीकम्यूनिकेशन्स एम्पायर में तब्दील किया। 1995 में उन्होंने अपनी कंपनी को 19 बिलियन डॉलर्स में ‘डिज्नी’ को बेचा था। मर्फी ने मैनेजमेंट से जुड़ी कई बातें बफेट को सिखाईं जो उन्होंने अपनी कंपनियों में भी अपना रखी थीं।

कर्मचारियों को आजादी दीजिए: कर्मचारियों को नाजुक लम्हों पर फैसला लेने की आजादी दी जाना चाहिए। आधुनिक संस्थानों में कर्मचारियों को केवल आदेश पालन करने की इजाजत नहीं होती है, उन्हें प्रोत्साहित किया जाता है कि वो पारंपरिक ढंग से हटकर सोचें। उन्हें ऐसे प्रोत्साहित किया जाता है कि वे पर्याप्त जानकारी व सही डेटा के आधार पर अपने काम को आगे बढ़ा सकें। वॉरेन बफेट और टॉम मर्फी दोनों ने ही इस बात का खास ख्याल रखा था। वो सही लोगों का चुनाव करते थे, उन्हें अच्छी तरह से तैयार करते थे। उनकी जरिये ही आदेश नीचे तक पहुंचाते थे। फिर वो हर डिटेल लेने के लालच को भी छोड़ देते थे। सफलता के लिए जरूरी है कि भरोसा और ताकत दोनों ही कर्मचारियों के हाथों में संभलवा दी जाए।

समझदारी देखकर काम सौंपिए: एक बार जब कंपनी में आजादी मिलने की वजह से अच्छा माहौल बन जाए तब सफल मैनेजमेंट का आधार स्तंभ होता है एक प्रतिनिधि मंडल। लीडर को विश्वास करना होगा और भरोसा हासिल भी करना होगा, तभी वो प्रतिनिधियों को अधिकार और जिम्मेदारी दे पाएगा। इसके लिए एक हद तक सब्र की आवश्यकता होगी। अगर अच्छी तरह से टास्क सौंपे गए तो वो कर्मचारियों को उनके होने की अहमियत को दर्शाएंगे, कंपनी को ताकत देंगे और संस्थान के अंदरूनी क्रियाकलापों को सुचारू करेंगे। मर्फी को अधिकार सौंपने के लिए जाना जाता था, लेकिन वो अपने मैनेजर्स की परफॉर्मेंस के मामले में जवाबदेही भी तय करते थे। बिना जवाबदेही के सौंपी गई जिम्मेदारी व्यर्थ है, यह बात महान मैनेजर्स हमेशा याद रखते हैं।

ईमानदारी और व्यावहारिक समझ के आधार पर ही चुनिए: बफेट हमेशा ही लीडर्स को यह राय देते रहे हैं। एक बार उन्होंने कहा था - जब हम लोगों को हायर करते हैं तो तीन चीजों का हमेशा ध्यान रखते हैं। हम उनकी बौद्धिक क्षमता को देखते हैं, हम उनके एनर्जी और आत्मबल के स्तर को देखते हैं, और ईमानदारी को खास तवज्जो देते हैं। अगर उनके ईमानदारी नहीं तो पहली दो चीजें आपको खत्म कर देंगी। अगर आप किसी की ईमानदारी को नजरंदाज करके नौकरी पर रख रहे हैं तो एक तरह से आलसी और मूर्ख को कंपनी में शामिल कर रहे हैं। इस मामले में मर्फी ने एक बात और जोड़ी है। उन्होंने कहा था -‘मैंने जिंदगी की रोचक बातों में यह भी सीखा है कि जिंदगी में सबसे अनकॉमन वस्तु है कॉमन सेंस। वाकई कॉमन सेंस वाले लोगों को ढूंढना मुश्किल है।’

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें