पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

टिप्स:आप अपने दोस्त के बॉस बन चुके हैं, ऐसे में क्या करेंगे ?

15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑफिस में सबसे अच्छे दोस्त के होने से आप संतुष्ट रहते हैं, प्रोडक्टिव रहते हैं और आपका परफॉर्मेंस भी सुधरता है। अब यदि किसी एक को लीडर बना दिया जाए, तो उसे पूरी ईमानदारी से रिपोर्ट देनी होगी, फिर चाहे दोस्त को बुरा लगे या भला। यदि आप खुद को ऐसी स्थिति में पाएं, तो क्या करेंगे?

1. स्वीकारें कि इस रिश्ते का समीकरण बदल गया है

आपके परफॉर्मेंस को देखते हुए यदि आपको लीडर बना दिया गया है, तो अब आपको बाकी सब लोगों के साथ अपने दोस्त को भी लीड करना होगा। ऐसे में बेहद जरूरी है आपका निष्पक्ष होकर काम करना। अपने दोस्त को ऑफिस के बाहर अकेले में मिलकर यह समझाएं कि अभी के लिए इस रिश्ते का समीकरण बदल गया है। उन्हें बताएं कि इस वक्त आप अपनी नई जिम्मेदारी को लेकर कैसा महसूस कर रहे हैं। उन्हें यह भी समझाएं कि क्योंकि अब आप लीड करेंगे तो बहुत जरूरी है कि वो आपको समझें। आपस में बातचीत करके ही किसी भी प्रकार की आपसी असहजता को दूर किया जा सकता है।

2. जिम्मेदारी के अनुकूल होना चाहिए आपका व्यवहार

अचानक मिली जिम्मेदारी को सहजता के साथ स्वीकार करते हुए अपने काम को समझने का लगातार प्रयास करें। इस बात का खास ध्यान रखें कि आपका व्यवहार आपको मिली जिम्मेदारी के अनुकूल ही होना चाहिए। जब आप लीड करते हैं, तो यह आपकी ही जिम्मेदारी होती है कि टीम के सभी साथियों में बेहतर सामंजस्य हो, किसी की भी किसी के प्रति जलन या दुर्भावना ना हो, और यदि ऐसा है तो आपको उसे दूर करने की पूरी कोशिश करनी चाहिए। कई बार ऐसा देखा जाता है कि लीडर टीम के साथियों के साथ मिलकर किसी एक साथी की निंदा में शामिल हो जाता है। लीडर को इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि वह किसी भी तरह की गॉसिप का हिस्सा नहीं बनने पाए।

3. भावनाओं की वजह से आपके निर्णय प्रभावित न हों

लीडर बनने की पहली शर्त है कि आपको यह स्वीकार करना होगा कि सभी लोग आपको पसंद नहीं करेंगे। ऐसा कई बार होगा कि आप किसी बात पर अपनी टीम से सहमत न हों और ऐसा भी होगा कि टीम किसी बात पर आपसे सहमत न हो। इसका मतलब ये नहीं कि आप लोगों को खुश करने के लिए सही काम ही न करें और लगातार समझौते करें। आपको कई बार मजबूती के साथ कठोर निर्णय भी लेने होंगे। हो सकता है इससे आपके दोस्त पर थोड़ा-बहुत प्रभाव पड़े। लेकिन आपको दृढ़ रहना होगा और इस बात का ख्याल रखना होगा कि कहीं आपकी दोस्ती आपके निर्णय को प्रभावित तो नहीं कर रही है। चाहे बात असाइनमेंट्स की हो, सैलरी बढ़ाने की हो या फिर प्रमोशन की, आपकी दोस्ती का आपके निर्णय लेने की क्षमता पर ज़रा भी प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए।

4. सोशल मीडिया पर भी सतर्क होकर पोस्ट डालें

आप एक लीडर हैं, तो सोशल मीडिया पर भी सतर्क रहना बहुत जरूरी है। यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां आपकी टीम के सभी साथी मौजूद रहते हैं। जहां तक हो सके अपनी टीम के साथियों को फ्रेंड लिस्ट में शामिल करने से बचें। लेकिन यदि ऐसा नहीं हो पाता है तो हमेशा सतर्क रहें। सोशल मीडिया पर अपनी टीम को फॉलो करने से या उनसे वहां बातचीत करने से कहीं हदें पार तो नहीं हो रहीं हैं, इसका ध्यान रखें। इस बात का भी पूरा ख्याल रखें कि सोशल मीडिया पर कोई ऐसी पोस्ट या ऐसी जानकारी न दें जो आप ऑफिस में देने से बचते हैं। सोशल मीडिया पर किसी एक साथी के प्रति अपना झुकाव न दिखाएं, फेवरेट्स न बनाएं। टीम के हर साथी के साथ एक जैसा ही व्यवहार करें, वरना उनके मन में आपके प्रति सम्मान पैदा नहीं हो पाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser