पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कविता:'अंदाज़ ही कुछ और है' ठंड के एहसास को बयां करती ये कविता पंक्ति दर पंक्ति

व्यग्र पांडे3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सर्दी की बरसात का ठिठुरन भरी रात का कोहरा छुपा प्रभात का अंदाज़ ही कुछ और है। छत पर बैठे परिवार संग बिखरे रवि किरणों के रंग धूप-छांव की जंग का अंदाज़ ही कुछ और है कपड़ों की परतें चढ़ा स्वयं को कैसा मढ़ा जर्सी सूटर कोट का अंदाज़ ही कुछ और है। पानी से उठती भाप का हर हर हर के जाप का भीगे कान हुए स्नान का अंदाज़ ही कुछ और है। गुड़ मूंगफली के स्वाद का खीच की फरियाद का तिल-गजक की याद का अंदाज़ ही कुछ और है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिस्थितियां अति अनुकूल है। कार्य आसानी से संपन्न होंगे। आपका अधिकतर ध्यान स्वयं के ऊपर केंद्रित रहेगा। अपने भावी लक्ष्यों के प्रति मेहनत तथा सुनियोजित ढंग से कार्य करने से काफी हद तक सफलत...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser