पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग़ौरतलब है कि:क्यों किया जाता है करवा चौथ की पूजा में कलश और थाली उपयोग? क्या है इसका महत्व

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

करवाचौथ की पूजा में मिट्टी या तांबे के कलश से चंद्रमा को अर्घ्य दिया जाता है। पुराणों में कलश को सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य और मंगल कामनाओं का प्रतीक माना गया है। मान्यता है कि कलश में सभी ग्रह, नक्षत्रों एवं तीर्थों का निवास होता है।

इनके अलावा ब्रह्मा, विष्णु, रूद्र, सभी नदियों, सागरों, सरोवरों एवं तैंतीस कोटि देवी-देवता कलश में विराजते हैं।

पूजा की थाली में रोली, चावल, दीपक, फल, फूल, बताशा, सुहाग का सामान, करवा और जल से भरा कलश रखा जाता है। करवे के ऊपर मिट्टी की सराही में जौ रखे जाते हैं। जौ समृद्धि, शांति, उन्नति और खुशहाली का प्रतीक होते हैं। करवा माता की पूजा में चंद्रमा को अर्घ्य देने की रस्म में प्रांत अनुसार भिन्नता दिखती है। कहीं अर्घ्य कलश से दिया जाता है, तो कहीं करवे से। तो कहीं करवा भी धातु का होता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें