पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग़ौरतलब है कि...:गुलाबी रंग पहले स्त्रियों को नहीं, बल्कि पुरुषों को प्रिय था

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुलाबी रंग युद्ध और शौर्य का प्रतीक माना जाता था इसलिए यह रंग पुरुषों के लिए जाना जाता था।

इतिहास में गुलाबी रंग लड़कों के लिए जाना जाता था। दरअसल, 19वीं सदी से पहले गुलाबी रंग युद्ध और शौर्य का प्रतीक रहा। पुराने रोमन साम्राज्य में अफसरों के हेल्मेट और कपड़े गुलाबी रंग के होते थे। 1794 में आई किताब ‘ए जर्नी राउंड माय रूम’ में लिखा है कि पुरुषों के कमरे में गुलाबी रंग की पेंटिंग और वस्तुएं होनी चाहिए क्योंकि इससे उत्साह बढ़ता है। प्रथम विश्व युद्ध के समय कई नए रोज़गार बने उन्हें रंगों के आधार पर विभाजित किया गया जैसे पढ़े-लिखे समाज के लिए वाइट कॉलर, मज़दूरों के लिए ब्लू कॉलर।

पर टायपिस्ट, सेक्रेटरी, वेटर और नर्स जैसी नौकरियां इन दोनों कॉलर के तहत नहीं आती थीं, इसलिए इन्हें पिक कॉलर जॉब कहा गया। इस जॉब में तरक्की एक सीमा तक ही हो सकती थी, इसलिए ये महिला प्रधान मानी गईं। इसके बाद गुलाबी रंग से पुरुषों ने दूरी बनाना शुरु कर दिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें