गर्मी के कारण अमेरिका में हुईं मौतों ने डराया:न्यूयॉर्क में गर्मी सोखने के लिए छतों पर ठंडा सफेद पेंट लगाने का अभियान

15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले साल गर्मी के मौसम में न्यूयॉर्क शहर में तीन बार गर्मी का जबर्दस्त प्रकोप हुआ। कई बार तापमान 33 डिग्री के पार पहुंच गया था। गर्मी के कारण कई लोगों की मौत हो गई। बड़ी संख्या में लोग लू से बीमार पड़ गए थे।

इस स्थिति ने शहर में तापमान को नियंत्रित करने के अभियान ने जोर पकड़ा है। अमेरिका के सबसे बड़े थोकबाजार हंट्स पाइंट प्रोड्यूस मार्केट ने अक्टूबर में इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया है। मार्केट की आठ लाख वर्गफुट छत के तीस हजार वर्गफुट हिस्से पर इलेस्टो-कूल 1000 नामक सफेद पेंट किया गया है। सिलिकॉन मिले पेंट में सूर्य की गर्मी और अल्ट्रा वायलेट किरणों को परावर्तित करने की क्षमता होती है। अंदर की सतह का तापमान भी घटता है। पेंट की सतह से एयरकंडीशनिंग में खर्च होने वाली बिजली बचेगी। हंट्स मार्केट पर ठंडे पेंट की कोटिंग का प्रोजेक्ट एनवाईसी कूलरूफ्स अभियान का हिस्सा है। एक स्वयंसेवी संगठन होप प्रोग्राम के कामगारों ने पेंटिंग की है। यह संस्थान जलवायु परिवर्तन से जुड़े उद्योगों और प्रोजेक्ट के लिए न्यूयॉर्क वासियों को ट्रेनिंग देता है। शहर की एजेंसियों की भागीदारी और पर्यावरण सुरक्षा एजेंसी की वित्तीय सहायता से न्यूयॉर्क में 2009 के बाद से एक करोड़ वर्ग फुट से अधिक छतों पर खास सफेद पेंट किया जा चुका है। 2019 के क्लाइमेट मोबिलाइजेशन एक्ट के तहत प्रावधान है कि न्यूयॉर्क शहर में नई बिल्डिंग की छत की सतह सूर्य के प्रकाश को परावर्तित करने वाली होगी। एनवाईसी कूल रूफ्स प्रोग्राम में सस्ते मकानों और स्वयंसेवी संगठनों को जगह देने वाली बिल्डिंगों को छत पर सफेद पेंट और सोलर पैनल लगाने में मदद दी जा रही है।

शहर ने 2050 तक कार्बन उत्सर्जन 80 प्रतिशत घटाने का लक्ष्य है। न्यूयॉर्क सिटी हाउसिंग अथॉरिटी को आशा है कि अगले कुछ वर्षों में उसकी 2500 बिल्डिंगों में से 2300 बिल्डिंग में छत ठंडे रखने के फीचर लगा दिए जाएंगे। छतों पर लगने वाले परंपरागत प्रोडक्ट के मुकाबले सफेद पेंट की कोटिंग का खर्च थोड़ा अधिक है। भीषण गर्मी के दिनों में ठंडी छत से एयरकंडीशनिंग का खर्च दस से तीस प्रतिशत घट सकता है।

क्रिस्टीना पोलेटो
© The New York Times

खबरें और भी हैं...